एडवांस्ड सर्च

Advertisement

PAK चुनाव: ये हैं गैरमुस्लिम उम्मीदवार, कितना मिलेगा समर्थन

aajtak.in[Edited By: कुबूल अहमद]
25 July 2018
PAK चुनाव: ये हैं गैरमुस्लिम उम्मीदवार, कितना मिलेगा समर्थन
1/9
पाकिस्तान में आम चुनाव 2018 के लिए मतदान जारी है. पाकिस्तान के राजनीतिक इतिहास में पहली बार गैर मुस्लिम यानी हिंदू, ईसाई, सिंधी, सिख सहित धार्मिक अल्पसंख्यक इतनी बड़ी तादाद में चुनावी मैदान में है. राजनीतिक पार्टियों के साथ-साथ निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर अपनी किस्मत अजमा रहे हैं. हालांकि ये गैर मुस्लिम चेहरे ज्यादातर आरक्षित सीटों पर चुनाव लड़ रहे हैं.
PAK चुनाव: ये हैं गैरमुस्लिम उम्मीदवार, कितना मिलेगा समर्थन
2/9
राधा भील
राधा भील सामान्य सीट से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में मैदान में हैं. जबकि वे दलित समुदाय से आती हैं. वे पहली बार चुनाव में किस्मत आजमा रही हैं. वह हिंदू लड़कियों के जबरन धर्म परिवर्तन के खिलाफ आवाज उठाती रही हैं. 2016 में दलित समुदाय के लोगों के साथ मिलकर राधा भील ने दलित सुजाग तहरीक (डीएसटी) नाम का संगठन बनाया था. इस बार के चुनाव में डीएसटी के 8 उम्मीदवार मैदान में हैं.
PAK चुनाव: ये हैं गैरमुस्लिम उम्मीदवार, कितना मिलेगा समर्थन
3/9
संजय पेरवानी
संजय पेरवानी मीरपुर खास सिटी की सामान्य सीट से मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट (एमक्यूएम) के उम्मीदवार हैं. पेरवानी 2013 से 2018 तक रिजर्व सीट से नेशनल असेंबली के सदस्य रहे. इस बार एमक्यूएम ने उन्हें भी रिजर्व सीट से नॉमिनेट किया है. पेरवानी सिंध के प्रभावशाली हिन्दू परिवार से ताल्लुक रखते हैं.
PAK चुनाव: ये हैं गैरमुस्लिम उम्मीदवार, कितना मिलेगा समर्थन
4/9
महेश कुमार मलानी
महेश कुमार मलानी आरक्षित सीट थारपरकर से नेशनल असेंबली के लिए चुनाव लड़ रहे हैं. वे पीपीपी के उम्मीदवार के तौर पर मैदान में है.  2013 के चुनाव में मलानी अकेले हिन्दू सदस्य थे जो पूरे पाकिस्तान में सामान्य सीट से चुनकर आए थे. इससे पहले 2008 से 2013 के बीच वे नेशनल असेंबली के सदस्य रह चुके हैं.
PAK चुनाव: ये हैं गैरमुस्लिम उम्मीदवार, कितना मिलेगा समर्थन
5/9
लेलन लोहार
दलित समुदाय की लेलन लोहर मीरपुर खास जिले की सीट से नेशनल असेंबली की उम्मीदवार हैं.  लोहार भी दलित सुजाग तहरीक की सदस्य हैं. वे इसी पार्टी से चुनाव लड़ रही है. लेलन रेहड़ी पर सामान बेचकर किसी तरह से गुजारा करती हैं.
PAK चुनाव: ये हैं गैरमुस्लिम उम्मीदवार, कितना मिलेगा समर्थन
6/9
खलील ताहिर सिंधू
खलील ताहिर सिन्धू ईसाई समुदाय से आते हैं. पंजाब की पिछली पीएमएल-एन सरकार में मिनिस्टर रह चुके हैं. ताहिर पहली बार 2008 में रिजर्व सीट से प्रॉविंशियल असेंबली के लिए चुने गए. जबकि दूसरी बार पीएमएल-एन ने उन्हें नामित किया था. वे पेशे से वकील हैं और औद्योगिक शहर फैसलाबाद से आते हैं.
PAK चुनाव: ये हैं गैरमुस्लिम उम्मीदवार, कितना मिलेगा समर्थन
7/9
असिया नसीर
आसिया नसीर ईसाई समुदाय से आती हैं. नसीर 2002 से रिजर्व सीट से संसद के निचले सदन की सदस्य हैं. नसीर जेयूआई-एफ से जुड़ी हैं. ये मुस्लिम धर्मगुरुओं की दक्षिणपंथी पार्टी है. सांसद के तौर पर नसीर हमेशा देश में अल्पसंख्यकों के साथ होने वाले भेदभाव के खिलाफ आवाज उठाती रही हैं.
PAK चुनाव: ये हैं गैरमुस्लिम उम्मीदवार, कितना मिलेगा समर्थन
8/9
इसफानयर भंडारा
इसफानयर भंडारा पारसी समुदाय से आती हैं. वे  2013 में पीएमएल-एन के टिकट पर रिजर्व सीट से नेशनल असेंबली में पहुंची थी. एक बार फिर वो रिजर्व सीट से ही नेशनल असेंबली के लिए चुनाव में हाथ आजमा रहे हैं. वे मरे ब्रेवरी के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर हैं. ये कंपनी पाकिस्तान की अल्कोहलिक उत्पाद बनाने वाली सबसे पुरानी और सबसे बड़ी कंपनी है. भंडारा के पास बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर डिग्री है.
PAK चुनाव: ये हैं गैरमुस्लिम उम्मीदवार, कितना मिलेगा समर्थन
9/9
रमेश कुमार वंकवानी
डॉक्टर रमेश कुमार वंकवानी पाकिस्तान के हिंदू समुदाय से सबसे चर्चित चेहरे हैं. वंकवानी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ रहे हैं. 2002 में रिजर्व सीट से अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की थी. 2013 में वे रिजर्व सीट से ही नेशनल असेंबली (एमएनए) के सदस्य बने. उन्हें पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज (पीएमएल-एन) ने नॉमिनेट किया था. नेशनल असेंबली के मेंबर के तौर पर उन्होंने सिंध प्रांत में हिन्दू लड़कियों के जबरन धर्मांतरण के मुद्दे को उठाया और संसद में हिन्दू मैरिज बिल को पास कराने के लिए लॉबिंग की थी. 
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay