एडवांस्ड सर्च

Advertisement

70 साल में पहली बार घटी आबादी, बढ़ी चीन की चिंता

aajtak.in [Edited By: प्रज्ञा बाजपेयी]
04 January 2019
70 साल में पहली बार घटी आबादी, बढ़ी चीन की चिंता
1/8
चीन की आबादी पिछले 70 सालों में पहली बार घट गई है. विशेषज्ञों का मानना है कि चीन की धीमी पड़ी अर्थव्यवस्था के लिए यह जनसांख्यिकी संकट एक चेतावनी की तरह है.

दुनिया के सबसे ज्यादा आबादी वाले देश चीन ने जनसंख्या नियंत्रण के लिए दशकों तक 'वन चाइल्ड पॉलिसी' लागू कर रखी थी. लेकिन 2016 में चीन ने बुजुर्ग आबादी और कम होते वर्कफोर्स को देखते हुए कपल्स को दो बच्चों की अनुमति दे दी थी.
70 साल में पहली बार घटी आबादी, बढ़ी चीन की चिंता
2/8
यूएस आधारित एकेडमी यी फुक्सियान के मुताबिक, 2018 में चीन में जन्म दर में प्रति वर्ष 25 लाख की गिरावट हुई है.

चीन ने चाइल्ड पॉलिसी जुर्माने के जरिए लागू की थी लेकिन जबरन अबॉर्शन के मामलों की वजह से चीन की खूब आलोचना हुई. 1979 में चीन ने 'वन चाइल्ड पॉलिसी' लागू की थी जिसके बाद चीन में बच्चों की जन्म दर में तेजी से गिरावट आई.

70 साल में पहली बार घटी आबादी, बढ़ी चीन की चिंता
3/8
चीन के दो बच्चों की नीति लागू करने के बाद भी उम्मीद के मुताबिक जन्म दर में बढ़ोतरी नहीं हुई. इसके बाद कयास लगाए जा रहे थे कि चीन की सरकार नियमों में और ढील देगी.

चीन के शहरी और ग्रामीण आबादी का अध्ययन करने वाले यी ने कहा, पिछला साल चीन की आबादी के लिए एक ऐतिहासिक टर्निंग पॉइंट रहा. यी ने आगाह किया कि घटती आबादी के इस ट्रेंड को अब शायद बदला ना जा सके. ऐसा इसलिए कि यहां बच्चा पैदा करने के लिए उपयुक्त उम्र की महिलाओं की संख्या में कमी आई है. दूसरी तरफ, शिक्षा, स्वास्थ्य और घर पर बढ़ते खर्च की वजह से कपल्स ज्यादा बच्चे नहीं पैदा करना चाहते हैं.

70 साल में पहली बार घटी आबादी, बढ़ी चीन की चिंता
4/8
यी के मुताबिक, 2018 में कुल 1.15 करोड़ मौतें दर्ज की गईं और आबादी में 12 लाख की कमी आई है. 1949 में न्यू चाइना की स्थापना के बाद से पहली बार ऐसा हुआ है कि चीन की आबादी घटी है. बुजुर्ग आबादी की समस्या बढ़ी है और आर्थिक स्थिति कमजोर हुई है.

70 साल में पहली बार घटी आबादी, बढ़ी चीन की चिंता
5/8
यी ने सरकार से अनुरोध किया है कि टू चाइल्ड पॉलिसी को खत्म कर लोगों के बेडरूम से बाहर निकलें और मैटरनिटी लीव और पैरेंट्स के लिए टैक्स ब्रेक जैसे कदम उठाएं. यी ने कहा, अगर सरकार अभी भी हस्तक्षेप नहीं करती हैं तो चीन की बुजुर्ग आबादी की समस्या जापान से भी भयंकर हो जाएगी और जापान से भी ज्यादा आर्थिक संकट का सामना करना पड़ सकता है.
70 साल में पहली बार घटी आबादी, बढ़ी चीन की चिंता
6/8
जैसे-जैसे चीन में बुजुर्ग लोगों की संख्या बढ़ रही है, वैसे-वैसे लेबर फोर्स भी घटता जा रहा है. इससे देश की पेंशन और हेल्थ केयर सिस्टम पर ज्यादा बोझ पड़ रहा है. हर एक बुजुर्ग शख्स के लिए 7 लोग काम कर रहे हैं और सोशल वेलफेयर सिस्टम में योगदान कर रहे हैं. यी ने कहा, 2030 तक यह आंकड़ा केवल 4 ही रह जाएगा.
70 साल में पहली बार घटी आबादी, बढ़ी चीन की चिंता
7/8
यी ने कहा, अगर यही स्थिति रही तो अमेरिका की अर्थव्यवस्था को चीन नहीं बल्कि भारत पीछे छोड़ेगा जिसके पास ज्यादा युवा आबादी है.
70 साल में पहली बार घटी आबादी, बढ़ी चीन की चिंता
8/8
चीन में बुजुर्ग आबादी बढ़ती जा रही है, घटती जन्म दर की वजह से आने वाले वक्त में चीन की विकास की गाड़ी भी पटरी से उतर सकती है. बड़ी आबादी वाले चीन में अधिकारियों ने पहले तो वन चाइल्ड की नीति का बचाव किया. अधिकारियों का दावा था कि इस नीति के लागू होने से करीब 40 करोड़ बर्थ कम करने में मदद मिली. इस दौरान चीन ने अपने जनसांख्यकीय का भी भरपूर फायदा उठाया क्योंकि चीन दुनिया भर की इंडस्ट्रीज को सस्ता लेबर उपलब्ध कराने में सक्षम था लेकिन अब चीन में श्रमिक आबादी घटती जा रही है तो जाहिर सी बात है कि अर्थव्यवस्था पर भी बुरा असर पड़ेगा.

यूएन के मुताबिक, 20 वर्षों में चीन में वरिष्ठ नागरिकों की संख्या का अनुपात दोगुना हो जाएगा जो 2017-2037 के बीच 10-20 फीसदी है. यूएन का अनुमान है कि चीन में 2050 तक करीब 30 फीसदी से ज्यादा लोग 60 साल की उम्र से ज्यादा के होंगे.

यी के ये आंकड़े जल्द एक रिसर्च पेपर में प्रकाशित होंगे जिसके को-ऑर्थर पेकिंग यूनिवर्सिटी के इकोनॉमिस्ट सु जियान हैं.
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay