एडवांस्ड सर्च

कविता: वह 20 वर्षों से दीप प्रज्जवलन की दुनिया में है

चूंकि साहित्य की दुनिया में 'दीप प्रज्जवलन' भी एक विषय है...

Advertisement
aajtak.in [Edited By: कुलदीप मिश्र]नई दिल्ली, 08 June 2015
कविता: वह 20 वर्षों से दीप प्रज्जवलन की दुनिया में है Lamp Lightening

वह बीस वर्षों से दीप प्रज्जवलन की दुनिया में है
और इस दरमियान वह करीब बीस हजार बार दीप प्रज्ज्वलित कर चुका है
इस एकरसता में एक सरसता अनुभव करता हुआ
वह सुरक्षा कारणों से अब तक टमाटरों, अंडों, जूतों, पत्थरों, थप्पड़ों
और गोलियों से तो दूर है लेकिन गालियों से नहीं
एक सघन हाशिए से लगातार सुनाई दे रही गालियों के बरअक्स
वह है कि दीप पर दीप जलाता जा रहा है
इस ‘उत्सवरतक्षतमदमस्त’ वक्त में
इतनी संस्कृतियां हैं इतनी समितियां हैं इतनी बदतमीजियां हैं
कि उसे बुलाती ही रहती हैं अवसरानवसर दीप प्रज्ज्वलन के लिए
और वह भी है कि सब आग्रहों को आश्वस्त करता हुआ
प्रगट होता ही रहता है
एक प्रदीर्घ और अक्षत तम में ज्योतिर्मय बन उतरता हुआ
लेकिन तम है कि कम नहीं होता
और शालें हैं कि वे इतनी इकट्ठा हो जाती हैं
कि अगर करोलबाग का एक व्यवसायी टच में न हो
तब वह गोल्फ लिंक वाली कोठी देखते-देखते गोडाउन में बदल जाए
गाहे-बगाहे उसे बेहद जोर से लगता है
कि वे शालें ही लौट-लौटकर आ रही हैं
जो पहले भी कई बार उसके कंधों पर डाली जा चुकी हैं
क्योंकि ठिठुरन से हुई मौतें हैं कि थम ही नहीं रहीं इस दुनिया में
इतनी इतनी सारी शालों के बावजूद
वे एक उम्र के असंख्य पांच मिनट
वे इतनी गणेश और सरस्वती वंदनाएं
वे इतने सत्कार
वे इतने दो शब्द
वे इतनी बार माइक से गायब होती हुईं आवाजें
वे इतने चेहरे
वे इतनी तालियां और गालियां... गालियां... गालियां...
इसे शर्म कहें या सरमाया
ये सब कुछ भी उसे हासिल है
एक वातानुकूलित और मधुमेहपीड़ित जीवन में...
[गंदे पोस्टकार्ड्स]

- यह कविता पेशे से पत्रकार और स्वभाव से यायावर अविनाश मिश्र ने लिखी है. आप भी अपनी कविताएं booksaajtak@gmail.com पर भेज सकते हैं.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay