एडवांस्ड सर्च

Advertisement

मशहूर शायर फराज हमेशा याद आएंगे

उर्दू के मशहूर शायर सईद अहमद शाह जिनका अदबी नाम फराज है का जन्म जनवरी 12, 1931 को पाकिस्तान के कोहट इलाके में हुआ. और उनकी तालीम पेशावर में हुई.
मशहूर शायर फराज हमेशा याद आएंगे अहमद फराज
मो. हुसैन रहमानीनई दिल्ली, 12 January 2015

उर्दू के मशहूर शायर सईद अहमद शाह जिनका अदबी नाम फराज है, का जन्म जनवरी 12, 1931 को पाकिस्तान के कोहट इलाके में हुआ. और उनकी तालीम पेशावर में हुई. फैज अहमद फैज के बाद अगर पाकिस्तान की जानिब से कोई दूसरा नाम उर्दू शायरी में आता है वो अहमद फराज हैं. बल्कि यूं कहें कि फैज के मुकाबले फराज की लेखनी आसान थी और उनकी शोहरत रोमांटिक शायर की हैसियत से बेशुमार है. वह पाकिस्तान के साथ-साथ दुनिया में सबके दिलों पर राज करते हैं.

फराज खुद फैज अहमद फैज से बहुत मुतासिर थे और वो उन्हीं की तरह जेल भी गए, जब जनरल जि‍या-उल-हक के मिल्ट्री रूल के खिलाफ उन्होंने अपनी आवाज बुलंद की. उनकी जिंदगी लगभग उस वक्त के तराक़ी पसंद शायरों से कुछ अलग नहीं थी. पहले जेल, फिर लगभग 6 सालों तक मुल्क से बाहर रहे.

अगर सियासत से अलग उन पर नजर डालें तो, फराज एक बेहद रोमांटिक शायर हैं जिनकी शायरी का हुस्न उनके अधूरेपन में है. उनकी शायरी में तनहाई और दर्द की शि‍द्दत मिलती है. बल्कि यूं कहना बेहतर होगा कि अपनी लेखनी के माध्यम से कभी उन्होंने जिंदगी की गुत्थ‍ियों को सुलझाया है तो कभी मोहब्बत का गीत गया है. 'अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख्वाबों में मिलें, जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें. और 'रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ' गजलें हमेशा फराज को उनके चाहने वालों को दिलों में जिंदा रखी.


उन्होंने खुद कहा था कि 'किसी से जुदा होना अगर इतना आसान होता, फराज जिस्म से रूह को लेने कभी फरिशते ना आते.' हमारे पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को फराज की गजल 'अब के बिछड़े तो' पसंद है और वो अपने वक्त के मशहूर गुलोकर मेहदी हसन की गायि‍की में इसे सुना करते थे. फराज 77 साल की उम्र में 25 अगस्त 2008 को दुनिया से रुखसत हो गए.
उनकी कुछ दिलकश गजलें...

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay