एडवांस्ड सर्च

सिर्फ मातम मनाकर मत, भूल जाइएगा ये कत्ल-ओ-गारत

सिर्फ मातम मनाकर मत, भूल जाइएगा ये कत्ल-ओ-गारत...

Advertisement
aajtak.inनई दिल्ली, 18 December 2014
सिर्फ मातम मनाकर मत, भूल जाइएगा ये कत्ल-ओ-गारत

तुम्हारी नजर में ये माना कि
'पड़ोसी' वो हमारे दुश्मन जैसा है
मगर उसके दर्द में ये मौका 
मौन का मरहम लगाने का नहीं...
उन 'चेहरों' को बे-नकाब करने का है
जिनके 'मोहरे' मासूमों को कुचलने पर उतर आए हैं
 
सिर्फ मातम मनाकर मत
भूल जाइएगा ये कत्ल-ओ-गारत...
ये दर्द भी जब नहीं जोड़ पाया दिलों के तार
तो समझिए ये मौन
'खुदा के दुश्मनों' का हौसला बढ़ा जाएगा!
 

ये कविता हमारे सहयोगी कुमार विनोद ने लिखी है. अगर आप भी अपनी कोई कविता 'आज तक' पर छपवाना चाहते हैं तो उसे booksaajtak@gmail.com पर भेजें.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay