एडवांस्ड सर्च

मजरूह सुल्तानपुरी के 5 गीत, जिनकी कोई एक्सपायरी डेट नहीं

आपके पसंदीदा नगमों के गीतकार मजरूह सुल्तानपुरी के वे 5 गीत जिनकी कम्बख्त कोई एक्सपायरी डेट ही नहीं.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in [Edited By: कुलदीप मिश्र] 25 May 2015
मजरूह सुल्तानपुरी के 5 गीत, जिनकी कोई एक्सपायरी डेट नहीं Majrooh Sultanpuri

फिर वही दिल लाया हूं. हम हैं राही प्यार के, हमसे कुछ न बोलिए. है अपना दिल तो आवारा, न जाने किस पर आएगा. इन पंक्तियों से आप अपने पसंदीदा नगमों के गीतकार मजरूह सुल्तानपुरी के मिजाज का पता ढूंढ सकते हैं. शानदार नज्मों और कालजयी गीतों के रचनाकार मजरूह साहब की 24 मई को पुण्यतिथि थी. पेश हैं उनके पांच गीत:
 
(1)
छोड़ दो आंचल ज़माना क्या कहेगा
छोड़ दो आंचल ज़माना क्या कहेगा
इन अदाओं का ज़माना भी है दीवाना
दीवाना क्या कहेगा


मैं चली अब खूब छेड़ो प्यार के अफ़साने
कुछ मौसम हैं दीवाना कुछ तुम भी हो दीवा
ज़रा सुनना जान-ए-तमन्ना
इतना तो सोचिये मौसम सुहाना क्या कहेगा
छोड़ दो आंचल ...

यूं न देखो जाग जाए प्यार की अंगड़ाई
ये रस्ता ये तनहाई लो दिल ने ठोकर खाई
यही दिन हैं मस्ती के सिन हैं
किसको ये होश है अपना बेगाना क्या कहेगा
छोड़ दो आंचल ...

ये बहारें ये फुवारें ये बरसता सावन
थर थर कांपे हैं तन मन मेरी बहियां धर लो साजन
अजी आना दिल में समाना
एक दिल एक जान हैं हम तुम ज़माना क्या कहेगा
छोड़ दो आंचल ...

(2)
छलकाएं जाम आइए आपकी आंखों के नाम
होंठों के नाम

फूल जैसे तन के जलवे, ये रँग-ओ-बू के
ये रंग-ओ-बू के
आज जाम-ए-मय उठे, इन होंठों को छूके
इन होंठों को छूके
लचकाइए शाख-ए-बदन, लहराइये ज़ुल्फों की शाम
छलकाएं जाम...

आपका ही नाम लेकर, पी है सभी ने
पी है सभी ने
आप पर धड़क रहे हैं, प्यालों के सीने
प्यालों के सीने
यहां अजनबी कोई नहीं, ये है आपकी महफिल तमाम
छलकाएं जाम...

कौन हर किसी की बाहें, बाहों में डाल ले
बाहों में डाल ले
जो नज़र को शाख लाए, वो ही सम्भाल ले
वो ही सम्भाल ले
दुनिया को हो औरों की धुन, हमको तो है साक़ी से काम
छलकाएं जाम ...

(3)
चांदनी रात बड़ी देर के बाद आई है
ये मुलाक़ात बड़ी देर के बाद आई है
आज की रात वो आए हैं बड़ी देर के बाद
आज की रात बड़ी देर के बाद आई है

ठाड़े रहियो ओ बाँके यार रे ठाड़े रहियो
ठाड़े रहियो \- (३)

ठहरो लगाय आऊँ, नैनों में कजरा
चोटी में गूँद लाऊँ फूलों का गजरा
मैं तो कर आऊँ सोलह श्रृंगार रे \- (३)
ठाड़े रहियो...

जागे न कोई, रैना है थोड़ी
बोले छमाछम पायल निगोड़ी... बोले

निगोड़ी... बोले...
अजी धीरे से खोलूँगी द्वार रे
सैयाँ धीरे से खोलूँगी द्वार रे
मैं तो चुपके से
अजी हौले से खोलूँगी द्वार रे
ठाड़े रहियो...

(4)
लेके पहला पहला प्यार
भरके आंखों मैं खुमार
जादू नगरी से आया है कोई जादूगर
लेके पहला पहला प्यार ...

उसकी दीवानी हाय कहूँ कैसे हो गई
जादूगर चला गया मैं तो यहाँ खो गई
नैना जैसे हुए चार
गया दिल का क़रार
जादू नगरी से आया है कोई जादूगर
लेके पहला पहला प्यार ...

तुमने तो देखा होगा उसको सितारों
आओ ज़रा मेरे संग मिलके पुकारो
दोनो होके बेक़रार
ढूँढे तुझको मेरा प्यार
जादू नगरी से आया है कोई जादूगर
लेके पहला पहला प्यार ...

जब से लगाया तेरे प्यार का काजल
काली काली बिरहा की रतियां हैं बेकल
आजा मन के श्रृंगार
करे बिन्दिया पुकार
जादू नगरी से आया है कोई जादूगर
लेके पहला पहला प्यर ...

मुखड़े पे डाले हुए ज़ुल्फ़ों की बदली
चली बलखाती कहाँ रुक जा ओ पगली
नैनों वाली तेरे द्वार
लेके सपने हज़ार
जादू नगरी से आया है कोई जादूगर
लेके पहला पहला प्यार ...

चाहे कोई चमके जी चाहे कोई बरसे
बचना है मुश्किल पिया जादूगर से
देगा ऐसा मन्तर मार
आखिर होगी तेरी हार
जादू नगरी से आया है कोई जादूगर
लेके पहला पहला प्यार ...

(5)
रूठके हमसे कहीं जब चले जाओगे तुम
ये ना सोचा था कभी इतने याद आओगे तुम

मैं तो ना चला था दो कदम भी तुम बिन
फिर भी मेरा बचपन यही समझा हर दिन
(छोड़कर मुझे भला अब कहां जाओगे तुम)-2
ये ना सोचा था ...

बातों कभी हाथों से भी मारा है तुम्हें
सदा यही कहके ही पुकारा है तुम्हें
(क्या कर लोगे मेरा जो बिगड़ जाओगे तुम)-2
ये ना सोचा था ...

देखो मेरे आंसू यही करते है पुकार
हो आओ चले आओ मेरे भाई मेरे यार
(पोंछने आंसू मेरे क्या नहीं आओगे तुम)-2
ये ना सोचा था...

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay