एडवांस्ड सर्च

'विश्व विजेता' सिकंदर के गुरु अरस्तू ने दुनिया को सिखाई ये 10 बातें

आगे पढ़िए अरस्तू की कही ऐसी 10 बातें, जो आपको सोचने का देंगी एक नया नजरिया.

Advertisement
aajtak.in
विकास त्रिवेदीनई दिल्ली, 03 July 2015
'विश्व विजेता' सिकंदर के गुरु अरस्तू ने दुनिया को सिखाई ये 10 बातें अरस्तू

'विश्व विजेता' सिकंदर के गुरु यूनान दार्शनिक अरस्तू ने दुनिया को सोचने का एक नया नजरिया दिया था. अरस्तू का जन्म ग्रीस में 384 ईसा पूर्व में हुआ था. अरस्तू को प्लेटो के सबसे मेधावी शिष्यों में गिना जाता था.

अरस्तू को दर्शन, राजनीति, काव्य, आचारशास्त्र, शरीर रचना, दवाइयों, ज्योतिष की बेहतरीन जानकारी थी. उनके लिखे हुए ग्रन्थों की संख्या 400 तक बताई जाती है. आगे पढ़िए अरस्तू की कही ऐसी 10 बातें, जो आपको सोचने का देंगी एक नया नजरिया.

1. मनुष्य प्राकृतिक रूप से ज्ञान कि इच्छा रखता है.
2. डर बुराई की अपेक्षा से उत्पन्न होने वाले दर्द है.
3. कोई भी उस व्यक्ति से प्रेम नहीं करता जिससे वो डरता है.
4. सभी भुगतान युक्त नौकरियां दिमाग को अवशोषित और अयोग्य बनाती हैं.
5. मनुष्य के सभी कार्य इन सातों में से किसी एक या अधिक वजहों से होते हैं: मौका, प्रकृति, मजबूरी , आदत, कारण, जुनून, इच्छा.
6. बुरे व्यक्ति पश्चाताप से भरे होते हैं.
7. मनुष्य अपनी सबसे अच्छे रूप में सभी जीवों में सबसे उदार होता है, लेकिन यदि कानून और न्याय ना हों तो वो सबसे खराब बन जाता है.
8. संकोच युवाओं के लिए एक आभूषण है, लेकिन बड़ी उम्र के लोगों के लिए धिक्कार.
9. शिक्षा बुढ़ापे के लिए सबसे अच्छा प्रावधान है. दुनिया के सभी मूर्ख हमारे गुरू हैं और दुनिया में मूर्ख कभी मरते नहीं.
10. चरित्र को हम अपनी बात मनवाने का सबसे प्रभावी माध्यम कह सकते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay