एडवांस्ड सर्च

'भारत की सच्चाई ब्रिटिश शासन के पोस्टमार्टम में खो गई है'

किंग्स कॉलेज लंदन के डायरेक्टर ऑफ इंडिया इंस्टिट्यूट में अवंत के प्रोफेसर सुनील खिलनानी ने कई सराहनीय और प्रभावशाली किताबें लिखी हैं, जिसमें 'द आइडिया ऑफ इंडिया' शामिल है.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: ब्रजेश मिश्र]नई दिल्ली, 17 March 2016
'भारत की सच्चाई ब्रिटिश शासन के पोस्टमार्टम में खो गई है'

पेंगुइन रैंडम हाउस इंडिया की ओर से आयोजित साहित्यिक और सांस्कृतिक महोत्सव 'स्प्रिंग फीवर' के दूसरे दिन गुरुवार को सुनील खिलनानी ने उन 50 प्रभावशाली भारतीयों के बारे में चर्चा की, जिन्होंने भारतीय इतिहास को आकार दिया.

किंग्स कॉलेज लंदन के डायरेक्टर ऑफ इंडिया इंस्टिट्यूट में प्रोफेसर के तौर पर कार्यरत सुनील खिलनानी ने कई सराहनीय और प्रभावशाली किताबें लिखी हैं, जिसमें 'द आइडिया ऑफ इंडिया' शामिल है. उनकी सबसे नई किताब 'इनकारनेशंस- इंडिया इन 50 लाइव्स' है, जिसे पेंगुइन बुक्स इंडिया ने फरवरी 2016 में प्रकाशित किया है.

'भारत के बारे में सटीक जानकारी नहीं है'
सुनील खिलनानी ने कहा कि भारत को अक्सर शोषण, दमन, विरोध या विरक्ति की भूमि के रूप में चित्रित किया जाता है. यह तेजी से आगे बढ़ती अर्थव्यवस्था भी है. भारत जल्द ही 2030 तक दुनिया का सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश बन जाएगा. इसे कतई नजरअंदाज नहीं किया जा सकता, पर अब भी हम में से बहुत से लोग जो भी भारत के बारे में जानते हैं, वह सही और सटीक नहीं है. सच्चाई मिथकों या ब्रिटिश साम्राज्यवादी शासन के पोस्टमार्टम में कहीं खो गई है.

उन्होंने कहा, 'यह अच्छा होगा कि हम प्राचीन काल के भारत के इन पुराने वर्जन को एक किनारे रख दें, जब भारत का राजसी उदारता की वजह से विकास हुआ. भारत में बदलाव लोगों की अंग्रेजी बोलने की क्षमता से भी नहीं आया. भारत का कायाकल्प पूर्व ब्रिटिश शासन की ओर से भारत में छोड़ी गई ट्रेनों से भी नहीं हुआ. देश में बदलाव उन महत्वपूर्ण शख्सियतों और समाज में उनकी भूमिका के कारण आया, जिन्होंने देश के विकास में बाधक सामाजिक कुरीतियों और कुप्रथाओं का बहादुरी से और उन तरीकों से विरोध किया, जिसकी उस समय कल्पना भी नहीं की जा सकती थी.

'गांधी ने दांडी यात्रा में कुछ को अलग बनाया'
दांडी नमक यात्रा गांधी का हथियार और राजनैतिक औजार था, जिसे उन्होंने अपनी ओर लोगों का ध्यान आकर्षित करने के लिए बखूबी इस्तेमाल किया. उन्होंने इसे क्रियान्वित किया, डिजाइन किया, दांडी मार्च में शामिल हो रहे बहुत से लोगों की गंभीरता को परखा और यह सुनिश्चित किया कि वह इस यात्रा को देखने वाले लोगों और समाज की नजरों में इकलौते नेता रहें. इसके लिए उन्होंने लाठी पकड़कर खुद को भीड़ से अलग किया. उन्होंने दांडी यात्रा के संबंध में संदेश देने के लिए बहुत से संदेशवाहकों को अलग-अलग जगह भेजा. उन्होंने दांडी मार्च के संबंध में विदेशी मीडिया को भी लिखा और उन्हें आमंत्रित किया.

उन्होंने कहा कि कुछ महान महिलाएं केवल प्रतीक बनकर रह जाती हैं और आजकल चौराहों पर सिर्फ उनकी मूर्तियां दिखती हैं. झांसी की रानी इसका सबसे अच्छा उदाहरण है. वह अभी भी उसी विद्रोही देवी की इमेज में कैद है. झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की इसी इमेज का ज्यादातर वर्णन किया जाता है. उनका कहीं भी ऐसी वीरांगना के तौर पर बखान नहीं किया जाता, जो मस्तिष्क और शरीर दोनों से ही मजबूत थीं. जब इंदिरा गांधी ने पहली बार देश के प्रधानमंत्री के तौर पर कामकाज संभाला तो बहुत से लोगों ने उन्हें नकार दिया था और उन्हें आशा थी कि वह कुशलता पूर्वक अपनी जिम्मेदारियों का निर्वाह नहीं कर पाएंगी, लेकिन उन्होंने अपने राजनीतिक फैसलों और तेज दिमाग से न सिर्फ अपने समर्थकों की प्रशंसा प्राप्त की, बल्कि अपने विरोधियों को भी सराहना करने पर मजबूर कर दिया. उन्होंने भारतीय लोकतंत्र की जड़ों को गहरा किया और विपक्ष को मजबूत किया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay