एडवांस्ड सर्च

आखिर मंटो 'पागल' क्यों हो गए थे?

कहते हैं नींद से बड़ा कोई नशा नहीं लेकिन नींद के रास्ते में भूख पड़ती है. भूख चाहे जिस्म की हो या रोटी की लेकिन इस भूख को मिटाने के लिए जब रोटी पर ही जिस्मानी मशक्कत होते देख मंटो पागल हो गए थे.  

Advertisement
Assembly Elections 2018
रोहित उपाध्याय 11 May 2018
आखिर मंटो 'पागल' क्यों हो गए थे? मंटो

मंटो की लेखनी के साथ जितनी बेअदबी की गई उतनी शायद ही किसी के साथ की गई हो. लोगों ने दुत्कारा और कटघरे में भी कई दफ़े खड़ा किया, यहां तक कि लोगों ने साहित्यकार मानने से भी इंकार कर दिया था.

लेकिन मंटो को पढ़ें तो महसूस होता है कि जब भीड़, रेप और लूट की आंधी में कपड़े की तरह जिस्मों को फाड़ रही थी. जब हवस और वहश का नज़ारा आंखों के सामने देख रहे थे तो मंटो पागल हो गए थे.

कहते हैं नींद से बड़ा कोई नशा नहीं लेकिन नींद के रास्ते में भूख पड़ती है. भूख चाहे जिस्म की हो या रोटी की लेकिन इस भूख को मिटाने के लिए रोटी पर ही जिस्मानी मशक्कत होते देख मंटो पागल हो गए थे.  

नुक्कड़ पर खड़े होकर सत्ता का नाटक दिखाते थे सफ़दर हाशमी

जब ज़मीन पर खिंची लकीरें लोगों की अक्ल और तन्कीद को अलग कर चुकी थीं और इंसान को इंसान नहीं गोश्त दिखने लगे थे तो मंटो पागल हो गए थे.

गरीबों के हाथ में जलती मशाल जैसी हैं इस कवि की लिखी नज़्में

उनके चाहने वाले कहते हैं कि भारत-पाकिस्तान के बंटवारे के दर्द को अगर किसी ने समझा है तो वो मंटो ही थे. उस 'पागल' दिमाग से निकली कहानियां 'आपके यथार्थ' में छेद कर आपके खोखलेपन पर हंसती हैं. आज के ही दिन (11 मई 1912) को सआदत हसन मंटो का जन्म हुआ था.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay