एडवांस्ड सर्च

जन्मशताब्दी पर याद किए गए भीष्म साहनी, तीन किताबों का लोकार्पण

बहुमुखी प्रतिभा के धनी भीष्म साहनी के जन्म के 100 साल पूरे हो गए. इस अवसर पर राजकमल प्रकाशन समूह ने ऑक्सफोर्ड बुक स्टोर में ‘विभाजन की त्रासदी और आज का भारत’ विषय पर परिचर्चा के साथ-साथ भीष्म साहनी की तीन किताबों का भी लोकार्पण किया.

Advertisement
aajtak.in[Edited By: केशव कुमार]नई दिल्ली, 09 August 2016
जन्मशताब्दी पर याद किए गए भीष्म साहनी, तीन किताबों का लोकार्पण भीष्म साहनी के जन्म के 100 साल पूरे

बहुमुखी प्रतिभा के धनी भीष्म साहनी के जन्म के 100 साल पूरे हो गए. इस अवसर पर राजकमल प्रकाशन समूह ने ऑक्सफोर्ड बुक स्टोर में ‘विभाजन की त्रासदी और आज का भारत’ विषय पर परिचर्चा के साथ-साथ भीष्म साहनी की तीन किताबों का भी लोकार्पण किया.

भीष्म साहनी की तीन किताबों का लोकार्पण
परिचर्चा में चर्चित जानी-मानी आलोचक निर्मला जैन, कथाकार एवं नाटककार असगर वजाहत, लेखक एवं अनुवादक कल्पना साहनी के साथ-साथ मशहुर दास्तानगो दारेन शाहिदी ने भीष्म साहनी की कहानियों का पाठ किया. कार्यक्रम में नई साज सज्जा में प्रकाशित भीष्म साहनी की आत्मकथा 'आज के अतीत' और पहली बार पेपरबैक संस्करण में प्रकाशित कहानी संग्रह 'शोभायात्रा' और 'वाङ्चू' का लोकार्पण किया गया.

विभाजन के बाद सबसे ज्यादा अब बंटे हैं हम
इस मौके पर असगर वजाहत ने कहा कि हमारा समाज विभाजन के बाद सबसे ज्यादा आज के वक्त में बंटा हुआ है. स्वतंत्र भारत में विभाजन, सत्ता और राजनीति का हिस्सा बन गया है. प्रमुख राजनीतिक दलों ने इसे राजनीति का माध्यम बनाया हुआ है. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि भीष्म साहनी ने विभाजन से जुड़े सभी पक्षों को समझते हुए लिखा. उनकी लेखन में समझ और वेदना है.

भाई बलराज साहनी को लिखते थे पंजाबी उर्दू में चिट्ठी
भीष्म साहनी की बेटी कल्पना साहनी ने पुरानी यादों की पोटली से कुछ किस्से श्रोताओं के साथ साझा करते हुए कहा कि भीष्मजी अपने भाई बलराज को पंजाबी उर्दू में चिट्ठियां लिखा करते थे. इससे घर में कोई और उन चिट्ठियों को न पढ़ सके. अपनी बात कहते हुए उन्होंने कहा, 'ऐसा नहीं है कि विभाजन के बाद सरहद के आर-पार के लोगों का रिश्ता टूट गया है, लोगों में अभी भी बहुत प्रेम और सद्भावना है.'

सोचने को मजबूर करता है साहनी का लेखन
निर्मला जैन ने कहा, 'भीष्म साहनी बहुत ही मीठे स्वभाव के व्यक्ति थे. बहुरंगी, लेकिन यथार्थ के साथ जुड़े व्यक्ति थे.' राजकमल प्रकाशन समूह के एमडी अशोक माहेश्वरी ने उपस्थित वक्ताओं, पाठकों और श्रोताओं को धन्यवाद देते हुए कहा, 'भीष्म साहनी अपने लेखन से आज भी हमारे बीच हैं. उनका पूरा लेखन हमें सोचने को मजबूर कर देता है.'

भीष्म साहनी का संक्षिप्त जीवन परिचय
रावलपिंडी (पाकिस्तान) में जन्मे भीष्म साहनी 8 अगस्त 1995-11 जुलाई 2003) आधुनिक हिंदी साहित्य के प्रमुख स्तंभों में से थे. 1937 में लाहौर गवर्नमेंट कॉलेज, लाहौर से अंग्रेजी साहित्य में एम ए करने के बाद साहनी ने 1958 में पंजाब यूनिवर्सिटी से पीएचडी की उपाधि हासिल की. भारत-पाकिस्तान विभाजन के पूर्व अवैतनिक शिक्षक होने के साथ-साथ ये व्यापार भी करते थे.

विभाजन के बाद उन्होंने भारत आकर समाचारपत्रों में लिखने का काम किया. बाद में भारतीय जन नाट्य संघ (इप्टा) से जा मिले. इसके पश्चात अंबाला और अमृतसर में भी अध्यापक रहने के बाद दिल्ली यूनिवर्सिटी में साहित्य के प्रोफेसर बने. भीष्म साहनी को हिंदी साहित्य में प्रेमचंद की परंपरा का अग्रणी लेखक माना जाता है. वे मानवीय मूल्यों के हिमायती रहे और उन्होंने विचारधारा को अपने ऊपर कभी हावी नहीं होने दिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay