एडवांस्ड सर्च

दरिया-ए-टेम्स के किनारे एक क़िस्सागो...

ज़ुबैरी की कहानी ‘मन की सांकल’ है जो विश्व स्तर की पीड़ा में से एक अहम् पीड़ा है. अपनी ही पैदा की हुई पीढ़ी का अपनी तरह न होना. यह हर घर और हर देश की कहानी है जिसका बयान ज़किया जी ने कुछ इस तरह किया है कि वह आपकी कहानी न होकर भी आपके जीवन में आए किसी और दुःख और भय की याद दिला जाती है.

Advertisement
aajtak.in
आदर्श शुक्ला नई दिल्ली, 14 November 2015
दरिया-ए-टेम्स के किनारे एक क़िस्सागो... किताब का कवर

'उसके सुनहरे रंग के बाल जो उस समय उलझे हुए सिर के चारों तरफ़ बिखरे पड़े थे. ऐसा लग रहा था जैसे गुलाबी पानी में आग लगी हो.' (कहानी – बाबुल मोरा)

'कपड़े जैसे शरीर से चिपके जा रहे थे. शम्मो उन कपड़ों को संभाल कर शरीर से अलग करती कहीं पसीने की तेज़ी से गल न जाएं.' (मेरे हिस्से की धूप)

ज़किया ज़ुबैरी की कहानियों की ज़मीन अजनबी नहीं है, वह हमारी और आपकी परखी हुई है. इसलिए जब हम उनकी कहानियां पढ़ते हैं तो वे सारे चरित्र हमको अपने से लगते हैं जैसे ‘अपने हिस्से के धूप’ की ‘शम्मो’. इसी तरह की दूसरी कहानी ‘लौट आओ तुम’ है – जो रिश्तों की आधुनिक समीकरणों पर बुनी और बिल्कुल नई कहानी है. इसमें किसी तरह का वाद ढूंढना बेकार है. यह ढलती उम्र के बीच जवान उम्र द्वारा उस संतुलन की कहानी है जो तन्हा जोड़े की आपसी बेरुख़ी और संवेदना के शुष्क होने की ढलान पर चाही-अनचाही ऊर्जा की तरंग पैदा करती है जो किसी को मंज़ूर है और किसी को कुबूल नहीं है.

ज़किया ज़ुबैरी को कहानी कहने का सलीक़ा आता है और ज़िन्दगी की परेशानियों को सुलझाने की तरफ़ उनका गहरा रुझान भी है. तभी ‘बाबुल मोरा’ और ‘मारिया’ जैसी कहानियां उन्होंने ज़िन्दगी के दामन से उठाईं, जिनमें व्यथा से ज़्यादा घृणा, चाहत से कहीं ज़्यादा घिन, मजबूरी से ज़्यादा भटकाव नज़र आता है जो वास्तव में हमारी तरह के इन्सानों का यथार्थ है. कहानियों का खुलासा देकर पाठकों को कहानी पढ़ने का स्वाद कम नहीं करना चाहती हूं. मगर लिसा, मार्था और् मारिया इत्तफ़ाक से ये तीनों चरित्र नारियों के हैं जो अपने जटिल अनुभवों द्वारा एक ख़ास समाज को हमारे सामने लाते हैं और विकास, वैभव, उपलब्धियों और कभी सूरज ना डूबने वाले साम्राज्य का वह चेहरा पेश करते हैं जिसे स्वीकार करना कठिन लगता है. ज़किया ज़ुबैरी की क़लम ने बाख़ूबी उस सच को कहानी में गूंथा है

इसी श्रंखला में ज़किया ज़ुबैरी की कहानी ‘मन की सांकल’ है जो विश्व स्तर की पीड़ा में से एक अहम् पीड़ा है. अपनी ही पैदा की हुई पीढ़ी का अपनी तरह न होना. यह हर घर और हर देश की कहानी है जिसका बयान ज़किया जी ने कुछ इस तरह किया है कि वह आपकी कहानी न होकर भी आपके जीवन में आए किसी और दुःख और भय की याद दिला जाती है. ज़किया ज़ुबैरी हिन्दुस्तान में पैदा हुईं. पाकिस्तान में बसे भारतीय से विवाह हुआ और लन्दन जैसे शहर में आकर बसीं. उनकी कहानियों को पढ़ कर महसूस हुआ कि उनके पास अहसासात की तीन परतें हैं और यही परतें उनकी कहानियों को ज़मीन देती हैं. पहली परत बचपन और जवानी जो भारत में गुज़रे, दूसरी शादी के बाद पाकिस्तान और तीसरी जवानी से अधेड़ उम्र तक विदेशी यात्राएं और विदेशी धरती पर सांस लेना.

उनकी अन्य कहानियां ‘बस एक क़दम’, ‘कच्चा गोश्त’, ‘सीप में बन्द घुटन’, ‘ढीठ मुस्कुराहटें’. ये चारों कहानियां भारतीय परिवेश की कहानियां हैं. ज़किया ज़ुबैरी लगभग चन्द वर्षों बाद एक बार हिन्दुस्तान का चक्कर लगाती हैं. छोटे बड़े शहरों में जाती हैं और ख़ुद को हिन्दुस्तानी कहलाना पसन्द करती हैं. यह भी बंटवारे के बाद की एक बहुत बड़ी विडम्बना है कि आज तक लोग अपना गांव अपना शहर नहीं भूल पाए हैं.

ज़किया ज़ुबैरी की कहानियों की भाषा सरल और लुभावनी है. जिसमें उनकी मौलिक अभिव्यक्ति और वर्णन ध्यान खींचते हैं. उनके यहां कहानी की ज़मीन ऊबड़ खाबड़ नहीं है. जहां का माहौल वैसी ज़बान. इसलिए कहानी के किरदार बनावटी नहीं लगते हैं. उनकी ज़बान भी लड़खड़ाती हुई नहीं बल्कि गंगा-जमुना के दोआबा से सींची हुई है भले ही उन्होंने उर्दू हिन्दी की तरह पढ़ी और लिखी न हो, मगर घर के उस माहौल का कोई क्या करेगा जो आपकी परवरिश करता है और पको आपकी बोली बोलना सिखाता है.

क्यों पढ़ें: मुझे पूरा यक़ीन है ज़किया ज़ुबैरी का कहानी संग्रह पढ़कर आपकी भी उन नई अनुभूतियों, गन्ध और चरित्रों से मुलाकात होगी और इन कहानियों को पढ़कर खूब लुत्फ़ आएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay