एडवांस्ड सर्च

तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में तेज गति से मतदान

दक्षिण के तमिलनाडु, केरल और केन्द्र शासित प्रदेश पुडुचेरी के सुबह कड़ी सुरक्षा में मतदान शुरू हुआ और इसकी गति तेज रही.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
भाषाचेन्नई-तिरुवनंतपुरम, 14 April 2011
तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में तेज गति से मतदान 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव

दक्षिण के तमिलनाडु, केरल और केन्द्र शासित प्रदेश पुडुचेरी के सुबह कड़ी सुरक्षा में मतदान शुरू हुआ और इसकी गति तेज रही. केरल में सुबह सात बजे मतदान शुरू हुआ और बड़ी संख्या में मतदाता मतदान केन्द्रों में दिखे. तमिलनाडु और पुडुचेरी में मतदान का सिलसिला एक घंटे बाद शुरू हुआ. कहीं से अभी तक किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं मिली है.

आज के मतदान में दक्षिण के तीन दिग्गजों- तमिलनाडु मुख्यमंत्री एवं द्रमुक अध्यक्ष एम. करूणानिधि, उनके केरल के समकक्ष वी. एस. अच्युतानंदन और अन्नाद्रमुक प्रमुख जे. जयललिता की चुनावी किस्मत का फैसला आज के मतदान से होगा. तमिलनाडु और केरल में कांटे की टक्कर है.

चेन्नई से मिली रिपोर्ट में बताया गया है कि तमिलनाडु के 234 विधानसभा क्षेत्रों में आज सुबह मतदान तेज गति से शुरू हो गया है. यहां पर 4.6 करोड़ मतदाता 2,773 प्रत्याशियों के चुनावी भाग्य का फैसला करने वाले हैं.

आज के चुनाव में राज्य के जिन दिग्गज राजनेताओं के चुनावी भाग्य का फैसला होना है उनमें मुख्यमंत्री और द्रमुक अध्यक्ष एम करूणानिधि, अन्नाद्रमुक की प्रमुख जयललिता, करूणानिधि के बेटे और उप मुख्यमंत्री एम के स्टालिन और अभिनेता से नेता बने डीएमडीके के विजयकांत शामिल हैं. सुबह-सुबह तमिलनाडु के अनेक मतदान केन्द्रों पर मतदाताओं की लंबी कतार देखी गयी है जहां पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मतदान सुचारू रूप से जारी है.

दूसरी तरफ केन्द्र शासित प्रदेश पुडुचेरी के 30 विधानसभा क्षेत्रों के लिए भी मतदान तेज गति से जारी है जहां मतदान केन्द्रों पर मतदाताओं की लंबी कतार लगी हुयी है.

इस बीच, तिरूवनंतपुरम से प्राप्त रिपोटरें के अनुसार राज्य के सभी 140 विधानसभा क्षेत्रों में आज सुबह शांतिपूर्वक मतदान शुरू हो गया. यहां मुख्य मुकाबला माकपा के नेतृत्व वाले एलडीएफ और कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूडीएफ के बीच है.

रिपोर्ट के अनुसार पूरे राज्य में मतदान का सिलसिला तेज गति से हो रहा है. यहां पर कुल 971 प्रत्याशी मैदान में हैं जिसमें से कई निर्दलीय प्रत्याशी भी अपना भाग्य आजमा रहे हैं.

केरल के कुल 20,578 मतदान केन्द्रों पर शांतिपूवर्क मतदान के लिए 1.25 लाख से अधिक सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया है. राज्य पुलिस के अलावा, दूसरे राज्यों और केन्द्रीय अर्धसैनिक बलों को सुचारू चुनाव सुनिश्चित कराने के लिए यहां तैनात किया गया है. आज के मतदान में लगभग 2.31 करोड़ मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे जिसमें से 8862 प्रवासी भारतीय भी शामिल हैं.

चुनाव के दौरान प्रचार अभियान शांतिपूर्ण बना रहा था लेकिन प्रचार के अंतिम दिन छिटपुट हिंसा की खबरें मिली थी.

आज के चुनाव में कई दिग्गज नेताओं के चुनावी भाग्य का फैसला होना है. इनमें राज्य के मुख्यमंत्री और माकपा के विख्यात नेता वी एस अच्युतानंदन (मलमपुझा), यूडीएफ की तरफ से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार और कांग्रेस नेता ओमान चांडी (पुतुपल्ली) कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष रमेश चेन्नीथला (हरीपद) राज्य के गृहमंत्री और माकपा पोलित ब्यूरो के सदस्य कोडियेरी बालाकृष्णन (तलस्सेरी) और वरिष्ठ भाजपा नेता ओ राजगोपाल (नेमोम) का नाम शामिल है.

पिछले बार वर्ष 2006 में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान यहां पर रिकार्ड 72.38 फीसद मतदान हुआ था. इस बीच, अन्नाद्रमुक नेता जयाललिता ने आज दावा किया कि तमिलनाडु सरकार ने चुनाव कार्य में लगे सुरक्षाकर्मियों को दैनिक भत्ता देने से इनकार कर दिया है और आरोप लगाया कि सत्तारूढ़ द्रमुक सुरक्षाकर्मियों की गैरहाजिरी में हिंसा करना चाहती है.

यहां एक मतदान केन्द्र में अपना मत डालने के बाद पत्रकारों से बातचीत में पूर्व मुख्यमंत्री ने चुनाव आयोग से अपील की कि वह मामले का संज्ञान लें और उसपर कदम उठाए.

जयललिता ने कहा, ‘मेरे पास सूचना है कि मुख्य सचिव उन सुरक्षा कर्मियों को 300 रुपये का दैनिक भत्ता देने से इनकार करने जा रहे हैं या पहले ही इनकार कर चुके हैं जो विधानसभा चुनाव के लिए तमिलनाडु में हैं.’

अन्नाद्रमुक नेता ने कहा, ‘चुनाव आयोग को इस सूचना का संज्ञान लेना चाहिए और इसपर कार्रवाई करनी चाहिए.’

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay