साहित्य आजतक: 'सनातन परंपरा की तरह हिन्दी अनंत तक चलती रहेगी'