साहित्य आजतक के मंच पर बोलीं कली पुरी- दर्शकों का समर्थन हमारी ताकत