संजय सिन्हा की कहानी: छोटी सी सीढ़ी