साहित्य आज तक: घर की मुर्गी, जो दाल से बढ़कर है