साहित्य आजतक: एक गांव जहां 'शिव' समझ के लोग करते हैं 'काली' की पूजा