अनामिका अंबर ने सुनाया कभी दरिया के भीतर भी समंदर जाग उठता है