एक और एक ग्यारह: एक अकेले अभिनंदन... सामने सैकड़ों दुश्मन