पठानकोट हमला: आतंक की कहानी, चश्मदीद की जुबानी