मुस्लिम महिला, शरीयत और तीन तलाक