जब पूरा गांव बना आतंकिया का सुरक्षा-घेरा!