जातिवाद और ऊँच-नीच के भेदभाव ने ली दलित युवक की जान