साहित्य आजतक मुशायरा: कोई चिंगारी जहां देखी, हवा दी उसने...