साहित्य आजतक 2019: कुंवर रंजीत चौहान ने पढ़े शानदार शेर, लूटी वाहवाही