साहित्य आजतक: 'दुश्मन बनाना है तो ऑटोबायोग्राफी लिख दो'