साहित्य आजतक: 'जिन्हें अपनी हालत का अहसास नहीं, साहित्य उनके लिए'