भालचंद्र जोशी बोले- लेखक मंडी में खड़ा, वहां विचार की कोई कद्र नहीं