एडवांस्ड सर्च

Advertisement

ये है 'खट‍िया स्नान', खाट पर नहाने के बाद क‍िचन में पानी का इस्तेमाल

13 June 2019
ये है 'खट‍िया स्नान', खाट पर नहाने के बाद क‍िचन में पानी का इस्तेमाल
1/7
मध्य प्रदेश के बैतूल में भीषण गर्मी के चलते लोग बूंद-बूंद पानी को  तरस रहे हैं. हालात यह है कुछ गांवों में तो पानी के लिए लोग जान जोखिम में डाल रहे है. ऐसा ही बैतूल का एक गांव है रेणुका खापा, जहां हैंडपंप सूख जाने पर भीषण पेयजल संकट खड़ा हो गया है.
ये है 'खट‍िया स्नान', खाट पर नहाने के बाद क‍िचन में पानी का इस्तेमाल
2/7
हालात इतने डराने वाले हैं कि लोगों ने पानी की कमी के चलते नहाना छोड़ दिया है. पांच दिन में एक बार खटिया पर बैठकर नहाने वाले ग्रामीण उसी पानी का दोबारा बर्तन तक धोने में इस्तेमाल कर रहे है.


ये है 'खट‍िया स्नान', खाट पर नहाने के बाद क‍िचन में पानी का इस्तेमाल
3/7
इसके चलते गांव में संक्रामक बीमारी का प्रकोप फैलने की आशंका बढ़ गयी है. पानी के लिए जोखिम से भरे इस जतन  पर अफसर खामोश है. वे सिर्फ भरोसा जता रहे है कि सब कुछ जल्द दुरुस्त कर दिया जाएगा.


ये है 'खट‍िया स्नान', खाट पर नहाने के बाद क‍िचन में पानी का इस्तेमाल
4/7
पीएचई मंत्री पांसे जब मोदी सरकार के जलशक्ति मंत्रालय का प्रेजेंटेशन देख रहे थे तो उसी समय सैकड़ों लोग पानी के लिए त्राहि त्राहि कर रहे थे.


ये है 'खट‍िया स्नान', खाट पर नहाने के बाद क‍िचन में पानी का इस्तेमाल
5/7
ये तस्वीर मंत्री पांसे की विधानसभा से सटी कांग्रेस विधायक धर्मूसिंह का इलाका है. यहां आठनेर खंड के गांव रेणुका खापा में ग्रामीण बूंद-बूंद पानी के लिए तरस रहे हैं. 750 की आबादी वाले इस गांव में 5 हैंडपंप और 5 कुएं हैं लेकिन सबके सब सूख चुके हैं.


ये है 'खट‍िया स्नान', खाट पर नहाने के बाद क‍िचन में पानी का इस्तेमाल
6/7
गर्मी की तपन से जूझ रहे लोगों को पेयजल संकट से भी जूझना पड़ रहा है. मध्यप्रदेश के पीएचई मंत्री सुखदेव पांसे के गृह जिले बैतूल में तो हालात जानलेवा बन गए हैं. यहां ग्रामीण जान जोखिम में डालकर कुओं से निकलने वाला गंदा पानी पीने को मजबूर हैं.
ये है 'खट‍िया स्नान', खाट पर नहाने के बाद क‍िचन में पानी का इस्तेमाल
7/7
हालात यह है कि ग्रामीण सुबह चार बजे से कुएं पर नंबर लगाकर अपनी बारी का इंतजार करते हैं. यहां भी जोखिम का आलम यह है कि एक व्यक्ति को कमर में रस्सी बांधकर गहरे कुएं में उतरना पड़ता है, तब कहीं जाकर एक परिवार को पीने के लिए दो बर्तन पानी मिल पाता है.
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay