एडवांस्ड सर्च

Advertisement

12 साल पहले ही PAK ने रची थी कारगिल जंग की साजिश

26 July 2017
12 साल पहले ही PAK ने रची थी कारगिल जंग की साजिश
1/10
 26 जुलाई कारगिल विजय दिवस है. इसी दिन भारतीय सेना ने पाकिस्तान को खदेड़ कर कारगिल की चोटियों पर तिरंगा फहराया था. 1999 के कारगिल सेक्टर में मुजाहिद्दीनों की शक्ल में पाकिस्तानी सेना के जवानों ने कब्जा कर लिया था.
12 साल पहले ही PAK ने रची थी कारगिल जंग की साजिश
2/10
8 मई 1999 को पहली बार पाकिस्तानी फौजियों और कश्मीरी आतंकियों को कारगिल की चोटी पर देखा गया था. शुरुआत में खुद भारतीय सेना पाक सैनिकों के इस कब्जे को मानने से इनकार कर रही थी.
12 साल पहले ही PAK ने रची थी कारगिल जंग की साजिश
3/10
एक्सपर्ट्स के मुताबिक इस जंग में 1984 की घटना ने बड़ी भूमिका निभाई थी. पाक के तत्कालीन राष्ट्रपति जनरल जिया उल हक के वक्त भारतीय सेना ने ऑपरेशन मेघदूत के जरिए सियाचिन पर कब्जा जमा लिया था.
12 साल पहले ही PAK ने रची थी कारगिल जंग की साजिश
4/10
सियाचिन ऑपरेशन के बाद 1987 में पाक सेना के एक सीनियर ऑफिसर ने जिया के सामने एक प्लान रखा था. प्लान के मुताबिक कारगिल की पहाड़ियों से नेशनल हाईवे दिखता है और यह लेह-लद्दाख को जोड़ता है. इससे होकर सियाचिन की सप्लाई लाइन जाती है.
12 साल पहले ही PAK ने रची थी कारगिल जंग की साजिश
5/10
 हालांकि उस दौरान अफगानिस्तान में पाकिस्तान ने एक मोर्चा खोल रखा था और इसलिए जिया उल हक भारत के साथ युद्ध करने के पक्ष में नहीं थे. जिया उल हक के बाद कारगिल युद्ध का प्रस्ताव बेनेजीर भुट्टो के पास भी रखा गया था.  
12 साल पहले ही PAK ने रची थी कारगिल जंग की साजिश
6/10
पत्रकार वीर सांघवी को दिए एक इंटरव्यू में पूर्व पाकिस्तान पीएम बेनजीर भुट्टो ने बताया था कि मुशर्रफ ने मेरे सामने युद्ध में जीतने और श्रीनगर पर कब्जे की बात कही थी.बेनजीर ने इसे खारिज कर दिया था. क्योंकि उन्हें डर था कि पाकिस्तान को श्रीनगर से ही नहीं, बल्कि आजाद कश्मीर से भी हाथ धोना पड़ सकता है. उस वक्त मुशर्रफ उस दौरान डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशन्स थे.
12 साल पहले ही PAK ने रची थी कारगिल जंग की साजिश
7/10
कारगिल सेक्टर में 1999 में भारतीय और पाकिस्तानी सैनिकों के बीच लड़ाई शुरू होने से कुछ हफ्ते पहले जनरल परवेज मुशर्रफ ने एक हेलिकॉप्टर से नियंत्रण रेखा पार की थी और भारतीय भूभाग में करीब 11 किमी अंदर एक स्थान पर रात भी बिताई थी.
12 साल पहले ही PAK ने रची थी कारगिल जंग की साजिश
8/10
मुशर्रफ के साथ 80 ब्रिगेड के तत्कालीन कमांडर ब्रिगेडियर मसूद असलम भी थे. दोनों ने जिकरिया मुस्तकार नामक स्थान पर रात बिताई थी. साल 2010 में पाकिस्तान ने माना कि इस युद्ध में उसके 453 जवान शहीद हुए थे.
12 साल पहले ही PAK ने रची थी कारगिल जंग की साजिश
9/10
इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, 24 जून 1999 को करीब सुबह 8.45 बजे जब लड़ाई अपने चरम पर थी. उस समय भारतीय वायु सेना के एक जगुआर ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) के ऊपर उड़ान भरी. जगुआर का इरादा “लेजर गाइडेड सिस्टम ” से बमबारी करने लिए टारगेट को चिह्नित करना था. उसके पीछे आ रहे दूसरे जगुआर को बमबारी करनी थी. लेकिन दूसरा जगुआर निशाना चूक गया और उसने “लेजर बॉस्केट” से बाहर बम गिराया जिससे पाकिस्तानी ठिकाना बच गया.
12 साल पहले ही PAK ने रची थी कारगिल जंग की साजिश
10/10
इसमें पायलट ने LoC के पार गुलटेरी को लेजर बॉस्केट में चिह्नित किया था लेकिन बम निशाने पर नहीं लगा. “बाद में इस बात की पुष्टि हुई कि हमले के समय पाकिस्तानी पीएम नवाज शरीफ उस समय गुलटेरी ठिकाने पर मौजूद थे.” हालांकि, बम गिरानेसे पहले इस बात की कोई भी खबर नहीं थी.

Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay