एडवांस्ड सर्च

Advertisement

'राफेल' में रहकर फंस गए ये लोग, पड़ोसी गांव के लोग ले रहे हैं मजे

अरविंद यादव [ Edited By: आदित्य बिड़वई ]
15 April 2019
'राफेल' में रहकर फंस गए ये लोग, पड़ोसी गांव के लोग ले रहे हैं मजे
1/5
भारत की राजनीति में इन दिनों राफेल का मुद्दा सबसे गर्म बना हुआ है. बीजेपी से लेकर कांग्रेस तक एक दूसरे पर आरोप -प्रत्यारोप कर रहे हैं. भले ही नेता राफेल का नाम उछाल रहे हैं, लेकिन छत्तीसगढ़ में एक गांव ऐसा भी है जहां रहने वाले लोगों के लिए राफेल नाम समस्या बन गया है.
'राफेल' में रहकर फंस गए ये लोग, पड़ोसी गांव के लोग ले रहे हैं मजे
2/5
दरअसल, छत्तीसगढ़ के महासमुंद से करीब 135 किलोमीटर दूर 'राफेल' नाम का गांव है. इन दिनों इस गांव का राफेल नाम ही लोगों के लिए समस्या बन गया है.
'राफेल' में रहकर फंस गए ये लोग, पड़ोसी गांव के लोग ले रहे हैं मजे
3/5
गांव वालों का कहना है कि जब से राफेल का मुद्दा भारतीय राजनीति में गर्माया है तब से आस-पास के गावों के लोग हमारी हंसी उड़ा रहे हैं. हमसे कई तरह के सवाल पूछे जाने लगे हैं तो कई लोग चुटकुले बना रहे हैं. यही नहीं, लोग यह तक कहने लगे हैं कि मोदी सरकार के जाने के बाद जब कांग्रेस की सरकार आएगी तो गांव के लोगों को जेल में डाल देगी.

'राफेल' में रहकर फंस गए ये लोग, पड़ोसी गांव के लोग ले रहे हैं मजे
4/5
बताया जा रहा है कि दूर-दराज बसे होने के कारण इस गांव की ओर किसी का ध्यान नहीं जाता है. लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में राफेल गांव से भी वोट डाले जाएंगे, लेकिन गांव वालों का कहना है कि अब तक ना तो कांग्रेस और ना ही बीजेपी से कोई यहां चुनाव प्रचार के लिए नहीं आया है.

'राफेल' में रहकर फंस गए ये लोग, पड़ोसी गांव के लोग ले रहे हैं मजे
5/5
गांव वाले बताते हैं कि हैं कि राफेल गांव पहले रायपुर जिले के अंदर आता था फिर 1998 में यह महासमुंद में आने लगा. यहां बरसों से कोई विकास नहीं हुआ है. खेती पर लोग यहां निर्भर है. बारिश के भरोसे ही खेती होती है. लोगों का कहना है कि हमें तो केवल सिंचाई की व्यवस्था चाहिए बाकी प्रधानमंत्री कोई भी बने हमें मतलब नहीं.
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay