एडवांस्ड सर्च

Advertisement

इस देश में बड़ी त्रासदी बना कोरोना, लाशों को दफनाने के लिए जगह नहीं

aajtak.in
23 May 2020
इस देश में बड़ी त्रासदी बना कोरोना, लाशों को दफनाने के लिए जगह नहीं
1/6
कोरोना वायरस ने इस समय पूरी दुनिया में कहर बरपा रखा है लेकिन ब्राजील अब इसका नया केंद्र बनता जा रहा है. दक्षिण अमेरिकी यह देश कोरोना केस के मामलों में रूस को पीछे छोड़ते हुए पूरी दुनिया में दूसरे नंबर पर पहुंच गया है. बीते 48 घंटे में वहां कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में खतरनाक तरीके से बढ़ोतरी हुई है. आप इसकी गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि वहां सिर्फ 24 घंटे में इस महमारी की वजह से 1179 लोगों की मौत हुई है.
इस देश में बड़ी त्रासदी बना कोरोना, लाशों को दफनाने के लिए जगह नहीं
2/6
ब्राजील में हालात इतने बदतर हो चुके हैं कि वहां के सबसे बड़े कब्रिस्तान में भी इन शवों को दफनाने के लिए जगह कम पड़ रही है. कुछ लोग अपने परिजनों के शवों को सड़कों और कब्रिस्तान के बाहर छोड़कर जा रहे हैं. बता दें कि इससे पहले वहां 12 मई को सिर्फ एक दिन में 881 लोगों की जान गई थी.
इस देश में बड़ी त्रासदी बना कोरोना, लाशों को दफनाने के लिए जगह नहीं
3/6
ब्राजील में अब तक 319069 कोरोना संक्रमित मामलों की पुष्टि हो चुकी है जबकि इस महामारी की वजह से अब तक 20541 लोगों की मौत हो चुकी है. वहां इतनी तेजी से कोरोना पीड़ितों की मौत हो रही है कि अब कब्रिस्तान में शवों को दफनाने के लिए जगह कम पड़ने लगी है. अधिकारियों के मुताबिक ब्राजील में हालात अभी और खराब हो सकते हैं.
इस देश में बड़ी त्रासदी बना कोरोना, लाशों को दफनाने के लिए जगह नहीं
4/6
ब्राजील के साओ पाउलो में लैटिन अमेरिकी देशों का सबसे बड़ा कब्रिस्तान है जिसका नाम विला फोर्मोसा है. इस कब्रिस्तान में शवों को दफनाने वाले कर्मचारी 8 घंटे की जगह अब 12 घंटे की ड्यूटी कर रहे हैं फिर भी सभी शवों को दफ्न करने का काम पूरा नहीं हो पा रहा है.
इस देश में बड़ी त्रासदी बना कोरोना, लाशों को दफनाने के लिए जगह नहीं
5/6
कर्मचारियों के मुताबिक जब तक वो एक शव को दफनाते हैं तब तक 15 नए शव आ जाते हैं. अब वहां रात को भी मृतकों को दफनाने का काम चल रहा है लेकिन हर रोज भारी संख्या में लाशों के आने से वहां भी जगह कम पड़ने लगी है.

इस देश में बड़ी त्रासदी बना कोरोना, लाशों को दफनाने के लिए जगह नहीं
6/6
कई लोग अपने परिजनों की लाशों को दफनाने के लिए इंतजार कर रहे हैं तो वहीं कई लोग शवों को सड़कों और कब्रिस्तान के बाहर छोड़कर भी चल गए.
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay