एडवांस्ड सर्च

Advertisement

...जब बिहार में 33 अपराधियों की आंखों में डाला तेजाब, कर दिया अंधा

aajtak.in [Edited by: अभिषेक आनंद]
12 September 2018
...जब बिहार में 33 अपराधियों की आंखों में डाला तेजाब, कर दिया अंधा
1/5
बिहार में हाल में एक के बाद एक मॉब लिंचिंग की घटनाएं सामने आई हैं. बेगुसराय और सीतामढ़ी का मामला ठंडा भी नहीं पड़ा कि सासाराम में भीड़ ने लूट करने आए एक बदमाश को पीट-पीटकर मार डाला. इन तमाम मामलों में भीड़ ने 'सजा' देने के लिए कानून अपने हाथ में ले ली. लेकिन बिहार में जब कानून हाथ में लेने की बात होती है तो 1980-81 का एक मामला अचानक सामने आ जाता है. वह मामला था- अंखफोड़वा कांड. इस दौरान पुलिस वालों ने ही कानून तोड़े थे. कई संदिग्ध अपराधियों की जिंदगी तबाह कर दी थी. (प्रतीकात्मक फोटो, फिल्म से) 
...जब बिहार में 33 अपराधियों की आंखों में डाला तेजाब, कर दिया अंधा
2/5
अंखफोड़वा कांड में 1980-81 के कुछ महीनों में 33 संदिग्ध अपराधियों की आंखों में तेजाब डाल दिया गया था. कानून हाथ में लेने और क्रूर सजा देने का काम पुलिस वालों ने ही किया था. पीड़ित लोगों में अंडर ट्रायल और दोषी करार दिए गए अपराधी शामिल थे. (प्रतीकात्मक फोटो, फिल्म से) 
...जब बिहार में 33 अपराधियों की आंखों में डाला तेजाब, कर दिया अंधा
3/5
ये वारदात खासकर भागलपुर जिले में हुई थी. इस कांड की वजह से सरकार की काफी आलोचना भी हुई थी. बाद में इसी मुद्दे पर फिल्मकार प्रकाश झा ने गंगाजल मूवी बनाई थी. (प्रतीकात्मक फोटो, फिल्म से) 
...जब बिहार में 33 अपराधियों की आंखों में डाला तेजाब, कर दिया अंधा
4/5
इस मामले के तूल पकड़ने के बाद एक जांच समिति भी बनाई गई. समिति ने लोगों की आंखों में तेजाब डालने की पुष्टि की. इसकी शुरुआत 1979 में नवगछिया थाने से हुई थी. बाद में दूसरे थानों में भी ऐसा किया जाने लगा.  (प्रतीकात्मक फोटो, साभार- गंगाजल फिल्म) 
...जब बिहार में 33 अपराधियों की आंखों में डाला तेजाब, कर दिया अंधा
5/5

पुलिस अपराधियों को पकड़ने के बाद उनके आंख फोड़ देती. इसके बाद उनके चेहरे पर तेजाब डाल दिया जाता. कोर्ट के आदेश के बाद कुछ पुलिस कर्मियों को सस्पेंड भी किया गया था. (प्रतीकात्मक फोटो- Getty Images) 
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay