एडवांस्ड सर्च

Advertisement

महिला ट्रैवलर्स को लगे टेक्नोलॉजी के पंख, ट्रिप पर सुरक्षा की पक्की गारंटी

aajtak.in
04 August 2019
महिला ट्रैवलर्स को लगे टेक्नोलॉजी के पंख, ट्रिप पर सुरक्षा की पक्की गारंटी
1/8
लड़कों को ही थी, लेकिन आज जमाना बदल चुका है. आज लड़कियां भी घर से बाहर घूमने निकल रही हैं. सोलो ट्रिप हो या ग्रुप टूर हर मामले में वे आगे हैं. लड़कियों की इस आजादी को टेक्नोलॉजी ने नए पंख दिए हैं. टेक्नोलॉजी ने न सिर्फ उनकी सुरक्षा को मजबूत बनाया है, बल्कि उन्हें बजट में ट्रिप का लुत्फ उठाने की भी आजादी दी है.
महिला ट्रैवलर्स को लगे टेक्नोलॉजी के पंख, ट्रिप पर सुरक्षा की पक्की गारंटी
2/8
क्यों अकेले ट्रिप पर नहीं जा सकती लड़कियां?
भारत में आज भी ऐसी कई जगह हैं जहां लड़कियों का घर से बाहर निकलना सही नहीं माना जाता. इसके अलावा कई ऐसे परिवार भी हैं जो पढ़े-लिखे होने के बावजूद बेटियों को अकेले ट्रिप पर जाने से रोकते हैं. इसके पीछे परिजन बेटियों की सुरक्षा और बाहर के खराब माहौल का हवाला देते हैं. हालांकि इन लड़कियों ने अपनी सुरक्षा का रास्ता खुद मजबूत बना लिया है.
महिला ट्रैवलर्स को लगे टेक्नोलॉजी के पंख, ट्रिप पर सुरक्षा की पक्की गारंटी
3/8
टेक्नो ट्रिप पर आजादी की उड़ान
लड़कियों के लिए अकेले ट्रिप पर निकलना आज सामान्य हो चुका है. उनकी इस आजादी का श्रेय काफी हद तक टेक्नोलॉजी को जाता है. रियल टाइम लोकेशन, गूगल मैप और वियरेबल डिवाइस ने महिलाओं की सुरक्षा को दुरुस्त किया है. घर से बाहर सफर में यह महिलाओं के लिए काफी मददगार साबित हुई है.
महिला ट्रैवलर्स को लगे टेक्नोलॉजी के पंख, ट्रिप पर सुरक्षा की पक्की गारंटी
4/8
कैसे टेक्नोलॉजी सबसे अच्छी दोस्त
ट्रिप पर जाते वक्त लड़कियों के स्मार्टफोन में कई ऐसे शानदार एप होते हैं जो उन्हें कहीं भी ठगी का शिकार नहीं होने देते. मिसाल के तौर पर कैब बुक करने से लेकर राइड का आनंद लेने तक में आप इनकी मदद ले सकते हैं. शॉपिंग हो या किसी जगह के बारे सही जानकारी मालूम करने में इनका अनुभव लाजवाब रहा है.
महिला ट्रैवलर्स को लगे टेक्नोलॉजी के पंख, ट्रिप पर सुरक्षा की पक्की गारंटी
5/8
टेक्नोलॉजी का चमत्कार
ट्रैवल इंडस्ट्री का कारोबार करीब ढाई बिलियन अमेरिकी डॉलर का है. एक ट्रैवल एजेंसी थॉमस कुक की मानें तो महिलाओं के कारण ट्रैवल एजेंसी का कारोबार 27 फीसदी बढ़ा है. देश और देश से बाहर आज करीब 15 पॉपुलर वूमेन ट्रैवल ग्रुप्स सक्रिय हैं.
महिला ट्रैवलर्स को लगे टेक्नोलॉजी के पंख, ट्रिप पर सुरक्षा की पक्की गारंटी
6/8
साल दर साल बढ़ रहा कारोबार
वाओ क्लब्स की फाउंडर सुमित्रा सेनापति बताती हैं कि आज महिलाओं के करीब 150 ट्रिप सालाना भेजे जाते हैं. जबकि एक दशक पहले तक सिर्फ ऐसे 5 या 6 ट्रिप ही हर साल भेजे जाते थे. कार रेंटल कंपनी एविस इंडिया के सीईओ सुनील गुप्ता का कहना है कि उनकी वेबसाइट पर पिछले साल की तुलना में 11 फीसदी महिला ट्रैवलर्स की बढ़ोतरी हुई है.
महिला ट्रैवलर्स को लगे टेक्नोलॉजी के पंख, ट्रिप पर सुरक्षा की पक्की गारंटी
7/8
महिला ट्रैवलर्स की फेवरेट जगह
गोवा, राजस्थान और अंडमान एंड निकोबार के अलावा जापान, चीन, हॉन्गकॉन्ग और रशिया महिलाओं की सबसे फेवरेट जगह हैं. महिला ट्रैवर्ल थ्री स्टार्स होटेल्स में ठहरना ज्यादा पसंद करती हैं. वे अपनी बजट में ही ट्रिप प्लान करना ज्यादा बेहतर विकल्प मानती हैं.
महिला ट्रैवलर्स को लगे टेक्नोलॉजी के पंख, ट्रिप पर सुरक्षा की पक्की गारंटी
8/8
इन चीजों को लेकर ट्रैवलर्स रहती हैं अलर्ट
हर मददगार टेक्नोलॉजी के कुछ नकारात्मक पक्ष भी होते हैं. कुछ महिलाओं को मानना है कि टेक्नोलॉजी की वजह से कई बार उनकी प्राइवेसी को भी खतरा रहता है. कई बार रियल टाइम लोकेशन जैसी टेक्नोलॉजी की वजह से उन्हें ज्यादा अलर्ट रहना पड़ता है. इसलिए ट्रिप पर निकलने के बाद वे अपनी रियल लोकेशन घरवालों और दोस्तों के साथ भी साझा करती रहती हैं.
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay