एडवांस्ड सर्च

Advertisement

सफाई के मामले में अव्वल है ये गांव, भारत ही नहीं पूरे एशिया में नं-1

aajtak.in
02 October 2019
सफाई के मामले में अव्वल है ये गांव, भारत ही नहीं पूरे एशिया में नं-1
1/9
महात्मा गांधी ने कहा था कि स्वस्थ मन और शरीर के लिए स्वच्छता की आदत होनी चाहिए. महात्मा गांधी के विचार को आगे बढ़ाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'स्वच्छ भारत मिशन' की शुरुआत की. आज इस मौके पर आपको बताते हैं. एशिया के सबसे स्वच्छ गांव के बारे में.
सफाई के मामले में अव्वल है ये गांव, भारत ही नहीं पूरे एशिया में नं-1
2/9
मावल्यान्नॉंग, मेघालय के पूर्वी खासी हिल्स जिले का एक गांव हैं. ये अपनी मातृवंश समाज और एशिया का सबसे स्वच्छ ग्राम होने के लिए जाना जाता है.
सफाई के मामले में अव्वल है ये गांव, भारत ही नहीं पूरे एशिया में नं-1
3/9
मावल्यान्नॉंग को 'ईश्वर का अपना बगीचा' भी कहा जाता है. इसे एशिया का सबसे ज्यादा साफ गांव होने के कई अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुके हैं.
सफाई के मामले में अव्वल है ये गांव, भारत ही नहीं पूरे एशिया में नं-1
4/9
दिलचस्प बात ये है कि इस गांव में साक्षरता की दर सौ फीसदी है और ज्यादातर गांववाले फर्राटेदार अंग्रेजी बोलते हैं.
सफाई के मामले में अव्वल है ये गांव, भारत ही नहीं पूरे एशिया में नं-1
5/9
इस गांव में कई सुंदर झरने हैं और इसके अलावा मावल्यान्नॉंग लिविंग रूट्स ब्रिज और एक बैलेंसिंग रॉक के कारण जाना जाता है.
सफाई के मामले में अव्वल है ये गांव, भारत ही नहीं पूरे एशिया में नं-1
6/9
यहां बेकार सामान को बांस से बने डस्टबिन में डाला जाता है फिर इस डस्टबिन को एक गड्ढे में डालकर उसकी खाद तैयार की जाती है.
सफाई के मामले में अव्वल है ये गांव, भारत ही नहीं पूरे एशिया में नं-1
7/9
पूरे गांव में जगह-जगह कचरा डालने के लिए बांस के डस्टबिन देखे जा सकते हैं.
सफाई के मामले में अव्वल है ये गांव, भारत ही नहीं पूरे एशिया में नं-1
8/9
2003 में इस गांव को एशिया में और 2005 में भारत का सबसे स्वच्छ ग्राम घोषित किया गया.
सफाई के मामले में अव्वल है ये गांव, भारत ही नहीं पूरे एशिया में नं-1
9/9
इस गांव की महिला हो, पुरुष हो या बच्चे हो उन्हें जहां भी गंदगी दिखती है वो किसी भी समय झाड़ू लेकर सफाई पर लग जाते हैं.
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay