एडवांस्ड सर्च

झारखंड विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण में 20 विधानसभा सीटों पर शनिवार को मतदान होगा. इसमें मुख्यमंत्री रघुवर दास की जमशेदपुर पूर्वी सीट भी शामिल है, जहां उनके खिलाफ पार्टी के ही बागी नेता सरयू राय के लड़ने से मामला दिलचस्प हो गया है.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    अब सोशल मीडिया पर एक पोस्ट जमकर वायरल हो रही है, जिसमें दावा किया जा रहा है कि हैदराबाद गैंगरेप के आरोपियों का नाम मोहम्मद पाशा, मोहम्मद इकबाल, मोहम्मद रहीम और मोहम्मद अकरम था.
    एक पोस्ट में उनके बयान के रूप में लिखा गया है कि मैं प्याज नहीं खाती, इसलिए मुझे इससे फर्क नहीं पड़ता. लेकिन क्या निर्मला सीतारमण ने सच में ऐसा कहा था?
    कृषि मंत्रालय के एक बड़े अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर कहा कि बारिश के बहाने प्याज की आपूर्ति को कुछ कारोबारी कार्टेल बनाकर कंट्रोल कर रहे हैं. हमने बारिश के असर के बाद प्याज की आपूर्ति का जो अनुमान लगाया था उसका सातवां हिस्सा बाजार में आ रहा है.
    वायरल तस्वीर में जमीन पर पड़ी कुछ लाशों के पास कुछ पुलिसकर्मी खड़े नजर आ रहे हैं. सोशल मीडिया पर इस तस्वीर को हैदराबाद एनकाउंटर से जोड़कर शेयर किया जा रहा है.
    साक्षी महाराज, इससे पहले लोकसभा चुनाव 2019 में उन्नाव सीट से संसद चुने जाने के बाद आरोपी कुलदीप सिंह सेंगर से मिलने जेल पहुंचे थे.
    दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल इन दिनों अनशन पर हैं. वे महिलाओं के खिलाफ होेने वाले अत्याचार के खिलाफ 4 दिन से भूख हडताल पर हैं. कठुआ बलात्कार मामले में भी स्वाति ने भूख हड़ताल की थी. तो क्या सिर्फ स्वाति को ही देश की महिलाओं की फिक्र है? दूसरे राज्यों की महिला आयोग की अध्यक्ष और टीम कहां है?
    इंडिया टुडे कॉन्क्लेव ईस्ट 2019 के पहले दिन आयोजित चर्चा में गुवाहाटी यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर चंदन कुमार गोस्वामी शामिल हुए जिनका नाम एनआरसी में शामिल नहीं था. उन्होंने कॉन्क्लेव में बताया कि कैसे और किस तरह से उनका नाम एनआरसी की लिस्ट से गायब हो गया.
    गृह मंत्रालय ने देश के टॉप 10 पुलिस स्टेशनों की लिस्ट जारी की है. अपराध को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहने वाले राज्य- यूपी और बिहार के किसी भी पुलिस स्टेशन का नाम इस लिस्ट में शामिल नहीं है.
    नित्यानंद को लेकर इक्वाडोर दूतावास ने बयान जारी किया है. बयान में कहा गया है कि न तो नित्यानंद को इक्वाडोर ने शरण दी है और न ही उसे दक्षिण अमेरिका में इक्वाडोर के पास या दूर कोई जमीन या द्वीप खरीदने के लिए किसी तरह की कोई मदद की गई है.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay