एडवांस्ड सर्च

अमरेंद्र धारी सिंह ने अपने शुरुआती पढ़ाई पटना के सेंट माइकल स्कूल से पूरी की जिसके बाद वह दिल्ली यूनिवर्सिटी चले गए. वहां से उन्होंने ग्रेजुएशन किया. बताया जाता है कि अमरेंद्र धारी सिंह का कारोबार फर्टिलाइजर और केमिकल फैक्ट्री और रियल एस्टेट से जुड़ा है.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    राजस्थान के नागौर जिले में 16 फरवरी को राजपूतों के एक गिरोह ने दो युवकों को पकड़ कर बुरी तरह पीटा और एक को नंगा करके पेट्रोल में पेचकस डुबोकर उसका यौन उत्पीडऩ किया
    प्रशांत किशोर ने बिहार के विकास के माॉडल का वैसे ही सपना दिखाया है, जिस प्रकार नरेंद्र मोदी ने 2014 में गुजरात मॉडल को देश के सामने रखा था. पीके के सामने सबसे बड़ी चुनौती यह है कि वो भविष्य के बिहार को किस तरह से जमीन पर उतारें और किसके सहारे अमलीजामा पहनाएंगे.
    Delhi Elections 2020: दिल्ली विधानसभा चुनाव की परिस्थितियों में अचानक आए बदलाव ने सियासी समीकरण को उलझा कर रख दिया है. अरविंद केजरीवाल विक्टिम कार्ड खेल रहे हैं तो बीजेपी ने पहले की तुलना में ज्यादा आक्रामक रुख अख्तियार कर रखा है. इंडिया टुडे की इंटेलीजेंस यूनिट ने दिल्ली में बीते पांच विधानसभा और लोकसभा चुनावों के वोटिंग पैटर्न समझने की कोशिश की है. 
    हिंदू समुदाय के नेता व पूर्व सांसद दीवान चंद चावला के मुताबिक इस समय हजारों मृतकों की अस्थियां सिंध के अलग-अलग मंदिरों में रखी हुई हैं. इन्हें भारत ले जाया जाना है.
    उत्तर प्रदेश के पूर्व परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह को पार्टी ने प्रदेश का अध्यक्ष चुना है. पार्टी प्रदेश मुख्यालय पर उत्तर प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष के रूप में उनके नाम का ऐलान किया गया. स्वतंत्र देव सिंह ने पार्टी की संगठनात्मक चुनावी प्रक्रिया के तहत प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल किया था.
    झारखंड में कांग्रेस क्षेत्रीय और सामाजिक समीकरण को साधने के लिए हेमंत सोरेन के सामने पांच मंत्री पद की मांग कर रही है. कांग्रेस झारखंड में 16 सीटें जीतने में कामयाब रही है, ऐसे में उसी लिहाज से सरकार में अपना प्रतिनिधित्व भी चाहती है. इसीलिए कांग्रेस ने सियासी नफा-नुकसान देखते हुए अपने पांच मंत्री बनाना चाहती है.
    क्रांतिकारी बदलाव की हवाएं भी आखिर क्यों देश की अंधेरी दलित वस्तियों से रुख मोड़ लेती हैं
    पीएम मोदी ने कहा कि मुद्रा लोन के जरिए स्वरोजगार की दिशा में एक बड़ा परिवर्तन आया है. इसने स्थितियों को बदला है और बैंकों का दरवाजा सामान्य जनता के लिए खोल दिया है.
    'तो ये थीं खबरें आज तक, इंतजार कीजिए कल तक.' एसपी यानी सुरेंद्र प्रताप सिंह के कई परिचयों में यह भी एक परिचय था. आज उनकी जयंती पर आर अनुराधा द्वारा संपादित 'पत्रकारिता का महानायक: सुरेंद्र प्रताप सिंह' संचयन का एक अंश

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay