एडवांस्ड सर्च

उत्तर प्रदेश के पूर्व परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह को पार्टी ने प्रदेश का अध्यक्ष चुना है. पार्टी प्रदेश मुख्यालय पर उत्तर प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष के रूप में उनके नाम का ऐलान किया गया. स्वतंत्र देव सिंह ने पार्टी की संगठनात्मक चुनावी प्रक्रिया के तहत प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल किया था.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    झारखंड में कांग्रेस क्षेत्रीय और सामाजिक समीकरण को साधने के लिए हेमंत सोरेन के सामने पांच मंत्री पद की मांग कर रही है. कांग्रेस झारखंड में 16 सीटें जीतने में कामयाब रही है, ऐसे में उसी लिहाज से सरकार में अपना प्रतिनिधित्व भी चाहती है. इसीलिए कांग्रेस ने सियासी नफा-नुकसान देखते हुए अपने पांच मंत्री बनाना चाहती है.
    क्रांतिकारी बदलाव की हवाएं भी आखिर क्यों देश की अंधेरी दलित वस्तियों से रुख मोड़ लेती हैं
    पीएम मोदी ने कहा कि मुद्रा लोन के जरिए स्वरोजगार की दिशा में एक बड़ा परिवर्तन आया है. इसने स्थितियों को बदला है और बैंकों का दरवाजा सामान्य जनता के लिए खोल दिया है.
    'तो ये थीं खबरें आज तक, इंतजार कीजिए कल तक.' एसपी यानी सुरेंद्र प्रताप सिंह के कई परिचयों में यह भी एक परिचय था. आज उनकी जयंती पर आर अनुराधा द्वारा संपादित 'पत्रकारिता का महानायक: सुरेंद्र प्रताप सिंह' संचयन का एक अंश
    बेशक जीत का अंतर घटा है फिर भी महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने काम को अंजाम तक पहुंचाने का माद्दा दिखाया, एक रौब गांठने वाले सहयोगी और नई ताकत जुटाकर उभरे विपक्ष को मात देकर जीत दर्ज की.
    हरियाणा में बीजेपी ने जेजेपी के साथ मिलकर भले सरकार बना ली हो, लेकिन मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के सिर कांटों भरा ताज है. जाट और गैर-जाट के साथ सामंजस्य बनाने के साथ-साथ जेजेपी ने जिस तरह से चुनाव में वादे किए हैं, उन्हें पूरा करना मनोहर लाल खट्टर के लिए बड़ी चुनौती होगी.
    राजस्थान सरकार ने दो विधानसभा उपचुनाव और स्थानीय निकाय के चुनाव से पहले सवर्णों को बड़ा तोहफा दिया है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने घोषणा की है राज्य में सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थाओं में आर्थिक रूप से पिछड़े सवर्णों यानी ईडब्ल्यूएस के 10 फीसदी आरक्षण के लिए अब परिवार की कुल आय ही मात्रा आधार होगी.
    महाराष्ट्र में बीजेपी के तीन प्रमुख ओबीसी नेता गोपीनाथ मुंडे, एकनाथ खडसे और विनोद तावड़े माने जाते थे, जिन्होंने ओबीसी के वोट को लेकर पार्टी में आए थे. ये तीनों ओबीसी नेता अलग-अलग कारणों से इस बार के विधानसभा चुनाव में सीन से बाहर हैं. ऐसे में प्रदेश के ओबीसी समुदाय को साधने के लिए बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह ने कमान संभाली है.
    उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी में एक तरफ जहां युवाओं को कमान मिली है. वहीं, दूसरी तरफ 18 वरिष्ठ नेताओं की सलाहकार समिति भी गठित की गई है, जिसकी अध्यक्षता खुद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी करेंगी.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay