एडवांस्ड सर्च

इस बार राहुल गांधी की अगुवाई में कांग्रेस ने पूरे दमखम के साथ नरेंद्र मोदी-अमित शाह की जोड़ी का सामना किया है. नतीजे आने से पहले कांग्रेस दफ्तर के बाहर समर्थकों ने पूजा अर्चना शुरू कर दी है. दफ्तर के बाहर कई समर्थक हवन कर रहे हैं.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    एक क्लिक में पढ़ें 22 मई की सभी बड़ी खबरें.
    01:41
    अनिल अंबानी ने राफेल सौदे पर एक लेख को लेकर कांग्रेस नेताओं और नेशनल हेराल्ड अखबार के खिलाफ दायर मानहानि का मुकदमा वापसा ले लिया है. ये मानहानि का मुकदमा 5000 करोड़ का है और अहमदाबाद की अदालत में दर्ज है. लोकसभा चुनाव में और उससे पहले भी इस मामले को कांग्रेस ने काफी जोरशोर से उठाया था. नेशनल हेराल्ड के वकील पी एस चंपानेरी ने बताया कि उन्हें रिलायंस ग्रुप के वकील ने सूचना दी है कि वे केस वापस ले रहे हैं. चंपानेरी ने कहा कि मुकदमे को वापस लेने की औपचारिक प्रक्रिया अदालत की गर्मी की छुट्टियां समाप्त होने के बाद शुरू होंगी.
    केंद्रशासित प्रदेशों और राज्यों से मतगणना केंद्रों और स्ट्रॉन्गरूम की सुरक्षा के लिए सख्त कदम उठाए जाने को कहा गया है. वोटों की गिनती में बाधा पैदा करने और हिंसा भड़काने को लेकर कई जगहों से आ रही खबरों के मद्देनजर गृह मंत्रालय ने यह कदम उठाया है.
    सूत्र बताते हैं कि रविवार रात फ्रांस की राजधानी पेरिस के एक उपनगर में भारतीय एयरफोर्स राफेल प्रोजेक्ट मैनेजमेंट टीम के ठिकाने में घुसपैठ की कोशिश की गई. इस कोशिश के बाद भारतीय वायुसेना (आईएएफ) अलर्ट हो गई है. इस संबंध में और जानकारी हासिल करने की कोशिश की जा रही है.
    एग्जिट पोल के रुझान पर देश में सियासी घमासान मचा है. विपक्षी पार्टियां ईवीएम बदलने का राग अलापने लगे हैं. जगह-जगह धरना दे रहे हैं. इन सबके बीच कई ऐसे पहलू हैं, जो बताते हैं कि नरेंद्र मोदी की जीत का रास्ता विपक्ष ने ही तैयार किया.
    543 लोकसभा सीटों में से इस बार 542 लोकसभा सीटों पर मतदान हुआ, 2019 के चुनाव में कुल 67.11 फीसदी मतदान हुआ जो कि आज़ाद भारत में इतिहास है. सात चरणों में हुए इस चुनाव में कई बार हिंसा की खबरें आईं, तो कई विवाद भी हुए. नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी के बीच जुबानी जंग हुई तो मतदान खत्म होते-होते बंगाल में लड़ाई छिड़ गई.
    आजतक- एक्सिस माई इंडिया के सर्वे में एनडीए को अधिकतम 365 सीटें दी गई हैं. ऐसे में यह जानना जरूरी है कि वो कौन से मुद्दे रहे जिससे नरेंद्र मोदी और एनडीए के पक्ष में हवा बनती दिख रही है.
    एग्जिट पोल के अनुमानों से एनडीए की बांछें खिली हुई है. एनडीए के घटक दलों को उम्मीद है कि नतीजे भी इसी तरह से आएंगे. इस वजह से इन पार्टियों ने अभी से ही जश्न की तैयारी शुरू कर दी है.
    रिलायंस ग्रुप के वकील रशेष पारिख ने कहा हे कि अब ये पूरा मामला सुप्रीम कोर्ट में है. उन्होंने कहा कि इस बावत नेशनल हेराल्ड को भी जानकारी दे दी गई है. नेशनल हेराल्ड के वकील पी एस चंपानेरी ने बताया कि उन्हें रिलायंस ग्रुप के वकील ने सूचना दी है कि वे केस वापस ले रहे हैं.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay