एडवांस्ड सर्च

देश, दुनिया, महानगर, खेल, आर्थिक और बॉलीवुड में क्‍या कुछ हुआ. जानने के लिए यहां पढ़ें समय के साथ साथ खबरों का लाइव अपडेशन.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    एनआईए संशोधन विधेयक बुधवार को राज्यसभा में बहुमत के साथ पास हो गया. इस बिल के पास होने से पहले कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी के तर्क पर सदन में माहौल गरमा गया.
    एनआईए संशोधन विधेयक 2019 बुधवार को राज्यसभा में बहुमत से पारित हो गया. अमित शाह ने कहा आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई करने वाली एजेंसी को और ताकत देने की बात हो तो सदन को एक मत होना चाहिए.
    पूर्व कांग्रेस नेता अल्पेश ठाकोर और बायड के पूर्व विधायक धवल सिंह झाला गुरुवार को बीजेपी में शामिल होने जा रहे हैं. दोनों नेता गुरुवार शाम 4 बजे बीजेपी की सदस्यता ग्रहण करेंगे.
    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट भाषण में कहा था कि बुनियादी ढांचे में एक लाख करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा और इसके लिए सॉवरेन बॉन्ड के द्वारा विदेश से कर्ज लिया जाएगा. लेकिन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ी संस्था स्वदेशी जागरण मंच ने इसे राष्ट्र हित के खिलाफ बताया है.
    भ्रष्टाचार के मामले में फंसे एक हजार से अधिक अफसरों को गृह मंत्रालय बाहर का रास्ता दिखा चुका है. सरकार ने यह जानकारी लोकसभा में दी है.
    अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ने कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगा दी है. इस मामले में फैसले की बेंच में एडहॉक न्यायाधीश तस्सदुक हुसैन गिलानी समेत 16 न्यायाधीश शामिल रहे. यह फैसला 15-1 से भारत के पक्ष में सुनाया गया है.
    भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने उत्तर प्रदेश में पार्टी की कमान स्वतंत्र देव सिंह को ऐसे ही नहीं सौंप दी है बल्कि यह सोची समझी रणनीति का हिस्सा है. बीजेपी ने पिछला विधानसभा चुनाव पिछड़ी जाति के केशव प्रसाद मौर्य की अगुवाई में ही लड़ा था और बड़ी सफलता हासिल की थी. इसी तर्ज पर एक बार फिर दांव खेला है.
    मोदी सरकार ने इस साल सार्वजनिक कंपनियों (PSU) के विनिवेश से 1.05 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा है, लेकिन इस विनिवेश नीति का विरोध शुरू हो गया है. वामपंथी ट्रेड यूनियन तो इसका विरोध कर ही रहे हैं, RSS का संगठन भारतीय मजदूर संघ (BMS) भी इसके खिलाफ खड़ा हो गया है.
    केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए मायावती ने कहा कि बीजेपी और इनकी केंद्र सरकार अपनी हर कमी, गलती और जनविरोधी नीतियों को सही ठहराने के लिए पिछली सरकारों की गलतियों का जो सहारा लेती रहती है. क्या यह उचित है?

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay