एडवांस्ड सर्च

शपथ ग्रहण के दौरान अरविंद केजरीवाल का पूरा फोकस सिर्फ और सिर्फ दिल्ली पर ही रहा. केजरीवाल ने बार-बार विकास के दिल्ली मॉडल का जिक्र तो किया, लेकिन राष्ट्रीय राजनीति के लिए उनका क्या प्लान है, इस पर पत्ते नहीं खोले.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    Delhi CM Arvind Kejriwal Oath Taking Ceremony: अरविंद केजरीवाल के इस शपथ ग्रहण समारोह में 50 ऐसे नायक आ रहे हैं, जिन्होंने अपने दमखम से दिल्ली की तस्वीर बदलने का बीड़ा उठाया है. ये साधारण लोग हैं, लेकिन इन्होंने अपनी असाधारण इच्छा शक्ति से दिल्ली में बदलाव की नींव रखी है. इनमें से कुछ शिक्षाविद् हैं, कोई बस मार्शल है तो कोई दिल्ली में सड़क हादसे में घायल हुए लोगों का इलाज कराता है.
    NCP सांसद सुप्रिया सुले ने ट्वीट कर RSS दफ्तर में आयोजित कार्यशाला पर सवाल उठाया है. सुले ने अपने ट्वीट से सवाल उठाया है कि ये किसका विचार था और RSS कार्यशाला में छात्रों को भेजने की क्या जरूरत थी.
    गुजरात यूनिवर्सिटी में संजीव सान्याल ने कहा कि यह कहना बेहद कठिन है कि महात्मा गांधी भगत सिंह और अन्य क्रांतिकारियों को बचाने में कामयाब होते या नहीं? हालांकि इतना जरूर है कि महात्मा गांधी ने भगत सिंह और अन्य क्रांतिकारियों को बचाने के लिए ज्यादा कोशिश नहीं की.
    घोषणा के मामले में कांग्रेस और बीजेपी ने भी कई महत्वपूर्ण कदम उठाने की बात कही थी जिससे दिल्ली की जनता महरूम रह गई. मसलन, गरीबों के लिए दो रुपये प्रति किलो गेहूं का आटा उपलब्ध कराना, 300 यूनिट मुफ्त बिजली, 20 हजार लीटर पानी मुफ्त आदि. 
    आम आदमी पार्टी के पार्टी दफ्तर पर मंगलवार को नया पोस्टर लगा है. इस पोस्टर में लिखा है- राष्ट्र निर्माण के लिए AAP से जुड़े, जुड़ने के लिए मिस कॉल दें 9871010101.
    बजटीय आवंटन में कमी इस बात का संकेत है कि शिक्षा क्षेत्र के लिए आगे का रास्ता कठिन होगा.
    दिल्ली की सत्ता पर काबिज होने के लिए कांग्रेस, आम आदमी पार्टी और बीजेपी ने एक से बढ़कर एक लोक लुभावन वादे किए हैं. इन तीनों प्रमुख पार्टियों ने सत्ता में आने पर आधारभूत चीजों को मुफ्त में देने का वादा कर रखा है. ऐसे में देखना है कि जनता किसके मुफ्त वादों पर विश्वास करती है.
    Delhi Elections 2020: केजरीवाल ने गारंटी कार्ड के अलावा 28 वादे किए हैं. इनमें देशभक्ति पाठ्यक्रम से लेकर महिलाओं को घर से नौकरी के विकल्प करने सहित कई बड़े वादे किए हैं. वहीं, कांग्रेस ने 300 यूनिट बिजली बिल फ्री देने जैसे कई अहम वादे किए हैं जबकि बीजेपी ने 2 रुपये किलो आटा और कॉलेज जाने वाली छात्राओं को स्कूटी देने जैसे वादे किए हैं.
    आम आदमी पार्टी के 28 प्वाइंट मेनिफेस्टो में कई ऐसी घोषणाएं हैं, जिनको पूरा करने के लिए केंद्र की मदद की जरूरत होगी. इसमें दिल्ली जन लोकपाल बिल, दिल्ली स्वराज बिल, सीलिंग से सुरक्षा और दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने का वादा शामिल है.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay