एडवांस्ड सर्च

इस घटना को लेकर राहुल गांधी के ट्वीट पर नरोत्तम मिश्रा ने कहा, जब राहुल गांधी जी की सरकार थी तब प्रीपेड व्यवस्था के तहत अधिकारियों की पोस्टिंग होती थी. हमने जानकारी आते ही कलेक्टर, एसपी, आईजी सब बदल दिए.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    मध्य प्रदेश के गुना में मारपीट का वीडियो वायरल होने के बाद कलेक्टर और एसपी को हटा दिया गया है. शिवराज सिंह चौहान ने इस मामले की पूरी जांच का आदेश दिया है.
    गुना में दलित दंपति के साथ हुई मारपीट मामले में अब राजनीति गर्म हो गई है. कमलनाथ के बाद अब मायावती ने भी शिवराज सरकार पर निशाना साधा है.
    गुना में कॉलेज प्रबंधन की शिकायत पर राजस्व और पुलिस विभाग की टीम अतिक्रमण हटाने गई थी. इस बीच पुलिस ने कार्रवाई की तो मामला बिगड़ गया. पुलिस ने किसान दंपति से मारपीट की, जिसके बाद उन्होंने कीटनाशकर दवा पीकर खुदकुशी की कोशिश की.
    विधानसभा चुनाव के लिए टिकट बंटवारे को लेकर सचिन पायलट और अशोक गहलोत में ठन गई. राहुल गांधी ने सचिन पायलट को फ्री हैंड दिया. राजनीति में चतुर अशोक गहलोत ने अपने लोगों को निर्दलीय खड़ा कर दिया और 11 निर्दलीय के अलावा अपने एक करीबी स्वास्थ्य राज्य मंत्री सुभाष गर्ग को राष्ट्रीय लोक दल से समझौते के नाम पर टिकट देकर जिता लिया.
    राजस्थान में सियासी संकट जारी है. ऐसे में सवाल उठता है कि राजस्थान की कांग्रेस सरकार को बचाने के लिए सीएम अशोक गहलोत के पास क्या-क्या विकल्प हैं.
    विकास दुबे प्रकरण के बहाने मायावती एक बार फि‍र ब्राह्मण समुदाय का उसी तरह समर्थन पाना चाहती हैं जैसा कि वर्ष 2007 के विधानसभा चुनाव में उन्हें मिला था.
    पीड़िता ने यह भी लिखा है कि वो एक दलित है और आरोपी ने उसे संबंध बनाने को मजबूर किया, इसके बाद वो गर्भवती हो गई. पीड़िता ने दावा किया कि उसे गर्भपात भी करवाना पड़ा. उसने लिखा कि अब वो समाज में बाहर नहीं निकल पाएगी.
    भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद ने भी आजाद समाज पार्टी का गठन कर कामकाज तेज कर दिया है. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की टीम लगातार चंद्रशेखर के संपर्क में रहती है. प्रियंका और चंद्रशेखर की नजर सूबे में बसपा प्रमुख मायावती के दलित मतदाताओं पर है. ऐसे में देखना है कि मायावती अपना राजनीतिक आधार बचाए रखती हैं.
    ये नरकलोक है दिल्ली से सैकड़ों किलोमीटर दूर बुंदेलखंड के चित्रकूट में, जहां गरीबों की नाबालिग बेटियां खदानों में काम करने के लिए मजबूर हैं, लेकिन ठेकेदार और बिचौलिये उन्हें काम की मजदूरी नहीं देते. मजदूरी पाने के लिए इन बेटियों को करना पड़ता है अपने जिस्म का सौदा.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay