एडवांस्ड सर्च

रिलायंस जियो प्लेटफॉर्म्स ने 5 अमेरिकी कंपनियों से करीब 78,562 करोड़ रुपये के निवेश सौदे किए हैं. अब दिग्गज अमेरिकी टेक कंपनी माइक्रोसॉफ्ट भी इसमें मोटा निवेश करने जा रही है. सत्य नडेला के नेतृत्व वाली माइक्रोसॉफ्ट रिलायंस जियो प्लेटफॉर्म्स में 2.5 फीसदी हिस्सेदारी ले सकती है.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    अब ग्राहक रिलायंस जियोमार्ट से फल, सब्जी, डेयरी उत्पाद और बेकरी जैसे जरूरी सामान ऑनलाइन ऑर्डर कर सकेंगे. लेकिन इस क्षेत्र में पहले से ही जबरदस्त प्रतिस्पर्धा है, एमेजॉन, फ्लिपकार्ट, बिग बास्केट जैसे खिलाड़ी हैं. तो भला रिलायंस जियोमार्ट ग्राहकों को ऐसा क्या देगी जो उसे पहले से नहीं मिल रहा? असल में रिलायंस जियो का जो मॉडल है उससे भारत की करीब 7 करोड़ खुदरा दुकानें अगले दिनों में वर्चस्व के लिए जंग के मैदान में बदलने वाली हैं.
    यहां जानें आज टेक की दुनिया में दिनभर क्या-क्या हुआ...
    अपराधियों की धड़पकड़ के लिए बनाया गया पुलिस का सर्विलांस सिस्टम अब कोरोना संक्रमण के रोगियों की पहचान में कारगर साबित हो रहा है. इसका सबसे अधिक प्रभावी इस्तेमाल पश्चिमी यूपी में किया गया है.
    रिलायंस इंडस्ट्रीज का तरीका भारती एयरटेल (Bharti Airtel) को भी पसंद आ गया है. एयरटेल ने भी अपनी हिस्सेदारी बेचकर कर्जमुक्त होने का निर्णय लिया है. भारती एयरटेल की प्रमोटर भारती टेलीकॉम शेयर बेचकर एक अरब डॉलर की पूंजी जुटाने की योजना बना रही है. रिलायंस इंडस्ट्रीज ने अपने को कर्जमुक्त करने के लक्ष्य को पूरा करने के लिए पांच कंपनियों को हिस्सेदारी बेचने का हाल में समझौता किया है.
    मुकेश अंबानी के छोटे बेटे अनंत को रिलायंस जियो में एडिशनल डायरेक्‍टर का पद मिला है. इसी के साथ अनंत की जियो प्‍लेटफॉर्म पर एंट्री हो गई है.
    जियो न्यूज ने एटीसी की एक रिपोर्ट के हवाले से दावा किया है कि लाहौर से कराची जाने वाला एयरबस ए-320 विमान जब कराची के जिन्ना अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से 15 समुद्री मील दूर था, उस वक्त 7000 के बजाय जमीन से 10000 फीट की ऊंचाई पर उड़ान भर रहा था. उस समय एयर ट्रैफिक कंट्रोल (एटीसी) ने विमान की ऊंचाई को लेकर पायलट को पहली चेतावनी जारी की थी.
    अमेरिका के इक्विटी फर्म KKR द्वारा जियो प्लेटफॉर्म्स में 1.5 अरब डॉलर (करीब 11,367 करोड़ रुपये) के निवेश का ऐलान किया गया है. लॉकडाउन के बीच भी रिलायंस इंडस्ट्रीज की किस्मत में लगातार चांदी ही दिख रही है. रिलायंस समूह की कंपनी जियो प्लेटफॉर्म्स में लगातार विदेशी कंपनियां भारी निवेश कर रही हैं. एक महीने के भीतर ही रिलायंस जियो प्लेटफॉर्म्स में फेसबुक इंक, जनरल अटलांटिक, सिल्वर लेक और विस्टा इक्विटी पार्टनर्स के द्वारा निवेश का ऐलान किया जा चुका है.
    दुनिया में जब दूसरी कंपनियां अपना अस्तित्व बचाने के लिए जूझ रही हैं, रिलायंस ने लॉकडाउन के बीच कुछ ही हफ्तों के भीतर फेसबुक, जनरल अटलांटिक, सिल्वर लेक और विस्टा इक्विटी पार्टनर जैसी चार विदेशी कंपनियों से सौदे किए हैं. न्यू कॉमर्स के रूप में रिलायंस को ग्रोथ का नया इंजन मिल गया है. जुलाई 2018 में जब अंबानी ने अपने न्यू कॉमर्स वेंचर की स्थापना की थी तो उन्होंने कहा था कि इसमें भारत के खुदरा कारोबार को नई परिभाषा देने की क्षमता है और यह अगले वर्षों में रिलायंस के लिए नया ग्रोथ इंजन बन सकता है.
    पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) पीठ की चोट से परेशान तेज गेंदबाज हसन अली को इलाज के लिए विदेश भेजने में कठिनाइयों का सामना कर रहा है.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay