एडवांस्ड सर्च

पश्चिम बंगाल के छोटे से शहर दुर्गापुर से पढ़ने दिल्ली आई आइशी घोष अब जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) छात्रसंघ की नई अध्यक्ष हैं. आइए, जानें उनका सफर व अन्य पदाधिकारियों के बारे में.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में एक बार फिर लेफ्ट यूनियन को जीत हासिल हुई है. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि फारुक अब्दुल्ला की जल्द से जल्द रिहाई हो. वहीं पाकिस्तान पर विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा है कि पाक अधिकृत कश्मीर जल्द भारत का हिस्सा होगा. पढ़ें, मंगलवार शाम की 5 बड़ी खबरें.
    जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्रसंघ का चुनाव परिणाम घोषित कर दिया गया है. लेफ्ट यूनिट की आइशी घोष जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष चुनी गई हैं. 
    बीते 6 सितंबर को हाइकोर्ट ने जवाहर लाल नेहरू छात्रसंघ के चुनाव नतीजों पर रोक लगा दी थी. इस रोक को मंगलवार को हटा दिया गया है. कोर्ट के इस फैसले से लेफ्ट पैनल में खुशी का माहौल है.
    एक देश एक विधान की बात करने वाली भारतीय जनता पार्टी की प्रचंड बहुमत वाली सरकार अपनी ही राज्य सरकारों से केंद्र द्वारा पारित कानून लागू नहीं करवा पाई. वहीं महाराष्ट्र और हरियाणा में चुनावी बिगुल फूंकने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को झारखंड पहुंच रहे हैं.
    नतीजे 13 सितंबर को आएंगे. एबीवीपी ने अध्यक्ष पद के लिए अक्षत दहिया, उपाध्यक्ष पद के लिए प्रदीप तंवर, महासचिव पद के लिए योगित राठी और संयुक्त सचिव के पद के लिए शिवांगी खेरवाल को चुनाव मैदान में उतारा है.
    एबीवीपी के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री श्रीनिवास ने कहा कि नाइट मिशन के तहत दिनभर हम धारा 370, कश्मीर जैसे तमाम मुद्दों पर छात्र नेताओं को प्रशिक्षण देते हैं. हम छात्रों से सुझाव लेते हैं और रात के समय आकर उन सभी सुझावों को सिद्धांत में बदलते हैं. यहीं से आगे की रणनीति की भूमिका तैयार की जाती है.
    दिल्ली यूनिवर्सिटी एडमिनिस्ट्रेशन का कहना है कि चुनाव की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. किसी भी तरह की दिक्कत न हो इसके लिए हम तैयार हैं.
    दिल्ली यूनिवर्सिटी छात्रसंघ (DUSU) के पदाधिकारियों का चुनाव 12 सितंबर को होना है. इसलिए, कैंपस में चुनाव प्रचार इन दिनों अपने चरम पर है. चुनाव में सभी छात्र संगठनों ने  जीत के लिए पूरी ताकत झोंक दी है.
    दिल्ली यूनिवर्सिटी छात्रसंघ चुनाव में सोमवार को हिंसक झड़प की खबर के बाद ABVP-NSUI के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी रहा. जहां एनएसयूआई ने एबीवीपी पर अपने उपाध्यक्ष प्रत्याशी पर हमले का आरोप लगाया तो वहीं एबीवीपी ने इसे एनएसयूआई के ही दो प्रत्याशियों के बीच का झगड़ा करार दिया.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay