एडवांस्ड सर्च

ईरान द्वारा जब्त किए गए ब्रिटेन के टैंकर पर तैनात भारतीय क्रू मेंबरों की सुरक्षित स्वदेश वापसी सुनिश्चित कराने के लिए उठती आवाजों के बीच रविवार को विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि विदेश मंत्रालय इस मसले पर गंभीरता से काम कर रहा है.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का रविवार को निगमबोध घाट पर अंतिम संस्कार किया गया. पूरे राजकीय सम्मान के साथ उन्हें अंतिम विदाई दी गई. इस दौरान पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी, उनके पति रॉबर्ट वाड्रा, गृह मंत्री अमित शाह समेत कई वरिष्ठ राजनेता मौजूद थे.
    बहाई धर्म को मानने वाले लोगों का कथित तौर पर उत्पीड़न किए जाने के आरोप के बाद ट्विटर ने ईरान की कुछ अहम न्यूज एजेंसियों को ब्लॉक कर दिया. एजेंसियों के मुताबिक उनके अकाउंट को इसलिए ब्लॉक किया गया, क्योंकि खाड़ी में तनाव बढ़ने के बाद ब्रिटिश तेल टैंकर को ईरान ने जब्त कर लिया है.
    होरमुज की खाड़ी में बढ़े तनाव के बीच ईरान ने जिस ब्रिटिश तेल टैंकर को जब्त किया है, उसके कुल 23 में से 18 क्रू मेंबर भारतीय हैं. इनमें से 4 केरल के नागरिक बताए जाते हैं.
    दिल्ली की राजनीतिक से बीजेपी को 1998 में बेदखल कर शीला दीक्षित के नेतृत्व में कांग्रेस सत्ता पर काबिज हुई थी, जिसे 15 साल के बाद 2013 में अन्ना आंदोलन से निकले अरविंद केजरीवाल ने चुनौती दी थी. शीला सत्ता से बेदखल क्या हुईं कांग्रेस दिल्ली की सियासत से पूरी तरह साफ हो गई.
    द लायन किंग के हिंदी वर्जन ने दूसरे दिन भी अच्छा कारोबार कर लिया है. फिल्म ने दूसरे दिन बॉक्स ऑफिस पर 70 फीसदी की बढ़त बनाई है.
    शीला दीक्षित को पता था कि पार्टी की क्या हालत है बावजूद इसके उन्होंने उम्र के इस पड़ाव में भी प्रदेश अध्यक्ष का पद संभाला. बात सिर्फ कमान संभालने की ही नहीं, लोकसभा चुनाव भी पार्टी ने लड़ने को कहा और वह लड़ीं.
    दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने दुनिया को 81 साल की उम्र में अलविदा कह दिया. शनिवार को एस्कॉर्ट्स अस्पताल में उन्होंने 3.55 बजे अंतिम सांस ली. उनका अंतिम संस्कार रविवार को दोपहर 2.30 बजे राजधानी के निगमबोध घाट पर किया जाएगा.
    1998 में पहली बार गोल मार्केट विधानसभा से जीत दर्ज कर वह दिल्ली की मुख्यमंत्री बनी थीं. इसी सीट से उन्होंने 2003 में भी चुनाव लड़ा और जीत दर्ज कर दूसरी बार दिल्ली के सीएम की कुर्सी पर बैठीं. 2008 में शीला दीक्षित ने नई दिल्ली विधानसभा से चुनाव लड़ा और लगातार तीसरी बार दिल्ली की मुख्यमंत्री बनीं.
    दिल्ली में विकास को नया आयाम देने वाली पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का निधन हो गया है. राजधानी के एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल में उन्होंने 81 साल की उम्र में अंतिम सांस ली. उनके निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कई अन्य वरिष्ठ नेताओं ने शोक जताया.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay