एडवांस्ड सर्च

भारत की नई उच्चायुक्त ने कहा कि ये एक ऐसा मौका है, जब ब्रिटेन और चीन के बीच संबंध हॉन्गकॉन्ग में लाए जा रहे राष्ट्रीय सुरक्षा कानून की वजह से गर्त में जा रहे हैं. इस दौरान भारत के साथ आर्थिक मेलजोल बढ़ाना ब्रिटेन और भारत दोनों के लिए ही स्मार्ट फैसला होगा.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    ये विवाद भारत के बंटवारे के समय से ही शुरू हो गया था. 1948 में हैदराबाद के निजाम आसफ जाह ने ब्रिटेन में तत्कालीन पाकिस्तान उच्चायुक्त के लंदन खाते में 10 लाख पाउंड और एक गिन्नी जमा कराए थे. ये ऐसे फंड के तौर पर जमा कराए गए थे कि अगर आक्रमण होता है तो भारत से हैदराबाद के ‘हितों को सुरक्षित रखने के विश्वास’ के तौर पर काम आए. उस समय, हैदराबाद की रियासत भारत सरकार के अधीन नहीं थी.
    एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि पाकिस्तान ने ब्रिटिश सांसदों के एक समूह पर 30 लाख रुपये खर्च किए. ये खर्च इसलिए किए गए ताकि सांसद पाक अधिकृत कश्मीर के दौरे पर आएं और वे कश्मीर में तथाकथित मानवाधिकार उल्लंघन की बात उठाएं.
    देश, दुनिया, खेल, बिजनेस और बॉलीवुड में क्‍या कुछ हुआ? जानने के लिए यहां पढ़ें, समय के साथ साथ खबरों का लाइव अपडेशन.
    पाकिस्तान पुलिस का दावा है कि घटना के बाद जब अधिकारी भागने की कोशिश कर रहे थे, तब आसपास के लोगों ने उन पर हमला कर दिया. भारतीय अधिकारी एस पॉल और डी ब्रह्मू की मेडिकल जांच की जाएगी.
    नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप ग्यावली ने कहा कि हमने भारत से बातचीत के लिए दो बार पहल की. लेकिन हमारे खत का भारत की तरफ से कोई जवाब नहीं मिला. हालांकि दोनों देशों के उच्चायुक्त बातचीत की दिशा में प्रयास आगे बढ़ा रहे हैं.
    इस कार्यक्रम में देश की सुरक्षा को लेकर चर्चा होगी. जाहिर है कि इस दौरान चीन के साथ तनाव और सीमा विवाद से जुड़े सवाल-जवाब भी होंगे. ई-एजेंडा आजतक कार्यक्रम शनिवार को सुबह 10 बजे से शाम 7 बजे तक चलेगा.
    देश, दुनिया, खेल, बिजनेस और बॉलीवुड में क्‍या कुछ हुआ? जानने के लिए यहां पढ़ें, समय के साथ साथ खबरों का लाइव अपडेशन.
    01:36
    पाक‍िस्तान में भारतीय उच्चायुक्त ने ये जानकारी दी है क‍ि आईएसआई उनके पीछे पड़ा हुआ है. भारतीय उच्चायोग में तैनात गौरव अहलूवाल‍िया ने एक वीड‍ियो के जर‍िये बताया है क‍ि उनके घर आईएसआई का पहरा है. ये वीड‍ियो 2 जून का है जब गौरव अहलूवाल‍िया के घर के बाहर आईएसआई के लोग गाड़ियों पर तैनात थे. भारतीय उच्चायुक्त अपने घर से न‍िकल रहे थे तो आईएसआई के लोगों ने उनका पीछा क‍िया. ऐसा पहली बार नहीं है जब हमारे ड‍िप्लोमैट के ख‍िलाफ हैरेसमेंट के केस हम देख रहे हैं.
    देश, दुनिया, खेल, बिजनेस और बॉलीवुड में क्‍या कुछ हुआ? जानने के लिए यहां पढ़ें, समय के साथ साथ खबरों का लाइव अपडेशन.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay