एडवांस्ड सर्च

दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी आज घोषणा पत्र जारी करेगी. इसको 'केजरीवाल का गारंटी कार्ड' नाम दिया गया है. पार्टी के सूत्रों के मुताबिक, इस गारंटी कार्ड में 10 से 15 ऐसी सुविधाओं का जिक्र होगा, जिसके लिए जनता को गारंटी दी जाएगी. इस गारंटी कार्ड में दिल्ली को मॉर्डन सिटी बनाने का जिक्र भी हो सकता है.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    पूर्व प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री के पोते और दिल्ली विधानसभा की द्वारका सीट से आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायक आदर्श शास्त्री ने अरविंद केजरीवाल को झटका देते हुए चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस का दामन थाम लिया.
    Delhi Election 2020: बीजेपी ने 57 सीटों पर और कांग्रेस ने 54 सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा की है. दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए 8 फरवरी को मतदान किया जाएगा.
    आम आदमी पार्टी ने दिल्ली की सभी 70 सीटों पर उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है. वहीं बीजेपी और कांग्रेस ने अभी फिलहाल अपनी पहली लिस्ट जारी की है.
    दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस पार्टी ने अपने 54 प्रत्याशियों की लिस्ट जारी कर दी है. आम आदमी पार्टी (AAP) छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुईं अलका लांबा को चांदनी चौक विधानसभा सीट से प्रत्याशी बनाया गया है.
    आम आदमी पार्टी (AAP) के पूर्व विधायक आदर्श शास्त्री ने कांग्रेस का दामन थामने के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर सनसनीखेज आरोप लगाया है. आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल पर टिकट बेचने का आरोप लगाते हुए आदर्श शास्त्री ने कहा कि सीएम केजरीवाल ने विधानसभा चुनाव का टिकट 10 करोड़ रुपये में बेचा.
    दिल्ली में परिसीमन आयोग की सिफारिश लागू होने के बाद विकासपुरी विधानसभा सीट की तरह ही उत्तम नगर विधानसभा सीट भी 2008 में अस्तित्व में आई. इससे पहले यह इस सीट को हस्तसाल विधानसभा क्षेत्र के नाम से जाना जाता था. 2008 के चुनाव में उत्तम नगर से कांग्रेस ने जीत हासिल की थी.
    शनिवार को पहले पूर्व विधानसभा अध्यक्ष योगानंद शास्त्री ने कांग्रेस से त्यागपत्र दिया तो कुछ ही देर बाद आदर्श शास्त्री ने कांग्रेस ज्वाइन कर दिया.
    दिल्ली भाजपा ने शुक्रवार को विधानसभा चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर दिया. 57 नामों की पहली सूची में भाजपा ने किसी भी मुस्लिम उम्मीदवार को टिकट नहीं दिया है.
    दिल्ली में विकासपुरी विधानसभा क्षेत्र की वर्तमान भौगोलिक संरचना 2008 में अस्तित्व में आई. 2002 में गठित परिसीमन आयोग की सिफारिशों के कार्यान्वयन के बाद 2008 में इस सीट पर पहली बार विधानसभा के चुनाव हुए और कांग्रेस के नंद किशोर विधायक चुने गए. पश्चिमी दिल्ली लोकसभा सीट के तहत आने वाली विकासपुरी सीट पर 2008 के बाद कांग्रेस अपनी जीत दोहरा नहीं पाई.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay