एडवांस्ड सर्च

भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने के लक्ष्य के साथ 27 सितंबर 1925 को विजयदशमी के दिन आरएसएस की स्थापना की गई थी. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ परिवार में 80 से ज्यादा समविचारी या आनुषांगिक संगठन हैं. दुनिया के करीब 40 देशों में संघ सक्रिय है. मौजूदा समय में संघ की 56 हजार 569 दैनिक शाखाएं लगती हैं.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    एक कला हजार व्यक्तियों द्वारा हजार अर्थों में व्याख्यायित होती है फिर भी उसकी पूरी व्याख्या नहीं हो पाती. और उस व्याख्या के क्रम में वह हजार लोगों के अंतस में कुछ न कुछ परिवर्तन कर देती है. गांधी वैसी ही एक कला थे. उनकी डेढ़ सौवीं जयंती पर हम इतना ही कह सकते हैं कि वह ‘संत’ राजनेता एक आर्ट भी था. एक सर्वसुलभ और प्यारा आर्ट.
    हिन्दी स्वयंप्रभा है. वह सत्ता की नहीं जनता की भाषा है और व्यापक जनसमर्थन से संपन्न है. अहिंदी भाषी राज्यों के हिंदी विरोधी तथाकथित राजनेताओं के दुराग्रह पूर्ण भाषण भले ही उनके थोड़े से क्षेत्र में हिंदी के प्रसार की गति धीमी कर लें किंतु विश्व-स्तर पर उसके बढ़ते पगो को थामने की सामर्थ्य उनमें नहीं है.
    आजादी के आंदोलन के दौरान दिल्ली असेंबली में बम फेंकने के लिए भगत सिंह को सजा हुई. शुरुआत में उन्हें दिल्ली की जेल में रखा गया और बाद में लाहौर भेज दिया गया. जेल में रहते हुए भगत सिंह ने कई खत और लेख लिखे जिन्होंने युवाओं को प्रभावित किया और आज भी उन दस्तावेजों को इतिहास में पढ़ाया जाता है.
    भारत को आजादी 15 अगस्त 1947 को मिली थी. लेकिन क्या आप जानते हैं उस दिन के बारे में जब पहली बार देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने आजादी की मांग की थी. जानें- क्या हुआ था उस दिन...
    फिल्म निर्देशक श्रीजीत मुखर्जी ने नेताजी की डेथ मिस्ट्री पर एक फिल्म बनाई है. इसका टीजर 15 अगस्त को जारी किया गया. फिल्म को लेकर उन्होंने बातचीत की है.
    नेताजी के प्रपौत्र और जाने-माने इतिहासविद सुगातो बोस का कहना है कि इस फिल्म के जरिए नेताजी की छवि को नुकसान पहुंचाया गया है. इंडिया टुडे ने सुगातो बोस से इस मुद्दे के तमाम पहलुओं को लेकर बात की.
    दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) में वीर सावरकर की प्रतिमा स्थापित करने का मामला लगातार तूल पकड़ता जा रहा है. शुक्रवार को तो इस मामले में दो छात्र संगठनों में झड़प होने के बाद पुलिस ने स्थितियां संभालीं और पूरे कैंपस को मानो छावनी में बदल दिया.
    दिल्ली यूनिवर्सिटी में वीर सावरकर की मूर्ति पर कालिख पोते जाने की घटना पर शिवसेना अध्यक्ष बाल ठाकरे ने तीखा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों को सरेआम पीटा जाना चाहिए.
    जो जांच एजेंसी कभी पूर्व गृह मंत्री पी. चिदंबरम के इशारों पर काम करती थी आज उसी ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया है. जिस सीबीआई दफ्तर का उद्घाटन पी. चिदंबरम के गृह मंत्री रहते हुआ था उन्हें गिरफ्तार कर वहीं लाया गया. दूसरी खबर दिल्ली के तुगलकाबाद इलाके से है. रविदास मंदिर को तोड़े जाने से नाराज दलित समाज के लोगों ने बुधवार को तुगलकाबाद में पत्थरबाजी की. इस मामले में भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर को गिरफ्तार किया गया. वहीं दिल्ली यूनिवर्सिटी के नॉर्थ कैंपस में वीर सावरकर की मूर्ति को जूतों की माला पहनाई गई और कालिख पोती गई. न्यूज रैप में जानिए आज सुबह की 5 बड़ी खबरें. 

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay