एडवांस्ड सर्च

राजकमल चौधरी की इन कविताओं से गुजरते हुए निस्संदेह पाठक, मनुष्य और उसकी पृथ्वी से जुड़े उन तमाम प्रश्नों से टकराएँगे जो आज भी हल नहीं किए जा सके हैं-

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    राजकमल चौधरी की पुण्यतिथि पर साहित्य आजतक पर पढ़िए विषय, भाषा और शिल्प के लिहाज से उनकी यह अनूठी कहानी 'ड्राइंगरूम'
    सुप्रसिद्ध साहित्यकार, संपादक और बच्चों के प्रिय लेखक प्रकाश मनु के विशाल रचना-संसार में एक और मोती. साहित्य आजतक पर उनकी सद्यः प्रकाशित पुस्तक 'मेरी आत्मकथा: रास्ते और पगडंडियाँ' का अंश
    कबीर जयंती पर साहित्य आजतक पर पढ़िए जॉन स्ट्रैटन हौली द्वारा लिखित और अशोक कुमार द्वारा अनुदित पुस्तक 'भक्ति के तीन स्वर: मीरा, सूर, कबीर' से संत कबीर पर लिखा अंश कौन थे कबीर
    गीतांजलि श्री के जन्मदिन पर साहित्य आजतक पर पढ़िए उनके उपन्यास तिरोहित का अंश. गीतांजलि श्री के लेखन में अमूमन, और तिरोहित में ख़ास तौर से, सब कुछ ऐसे अप्रकट ढंग से घटता है कि पाठक ठहर-से जाते हैं.
    सैनिकों के घाव दिखते ही उपचार की व्यवस्था होती है, लेकिन संपादक के घाव-दर्द को देखना-समझना आसान नहीं और उपचार भी बहुत कठिन. संपादक की निष्पक्षता और गरिमा से लोग उन्हें ‘स्टार’ मानते हैं, लेकिन उनके संघर्ष की भनक बहुत कम लोगों को मिलती है. इसी पुस्तक से...
    साहित्य आजतक के पाठकों के लिए गिरीश कर्नाड की संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से पुरस्कृत कृति 'तुग़लक' का अंश
    काशी हिंदू विश्वविद्यालय के महिला महाविद्यालय की प्राचार्य और विदुषी लेखिका प्रोफेसर चंद्रकला त्रिपाठी से उनके जन्मदिन पर साहित्य आजतक की खास बातचीत
    क्या आप जानते हैं कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की प्रेरणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कथा सम्राट मुंशी प्रेमचंद की कालजयी कहानी 'ईदगाह' से मिली थी. ईद के मौके पर साहित्य आजतक पर एक बार फिर गुजरिए नन्हें हामिद की संवेदना से
    प्रोफेसर चंद्रकला त्रिपाठी स्त्री मन, स्त्री जीवन, स्त्री की पीड़ा, स्त्री के स्वप्न एवं स्त्री की आकांक्षाओं की सफल कवयित्री तो हैं ही उनकी कविताओं की परिधि में समाज, संस्कृति, इतिहास, सभ्यता और रिश्ते-नाते भी घूमते हैं. उनके जन्मदिन पर साहित्य आजतक पर पढ़िए, उनकी चुनी हुई कविताएं:

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay