एडवांस्ड सर्च

तेलंगाना राष्ट्र समिति की कलवाकुंतला कविता ने मार्च में निजामाबाद से विधान परिषद चुनाव के लिए नामांकन भरा

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    बीजेपी केंद्र की सत्ता में पहले भी रही. अटल बिहारी वाजपेयी तीन बार पीएम बने तो मोदी ने 2019 में दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली. इसके बावजूद सरकार अपनी पार्टी के मूल एजेंडे पर आगे बढ़ने से हिचकती दिखी. लेकिन पिछला एक साल इस मायने में पूरी तरह अलग रहा और मोदी सरकार एक-एक सारे एजेंडे को अमलीजामा पहनाने में कामयाब रही है.
    मोदी सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल के पहले साल में कई ऐसे फैसले लिए हैं, जिनसे पहले से ही कमजोर विपक्ष की राह और मुश्किल हुई है, और ब्रैंड मोदी पहले से ज्यादा मजबूत. 2014 में नरेंद्र मोदी के रूप में बीजेपी को करिश्माई नेता मिला. मोदी लहर का ऐसा असर हुआ कि सिर्फ लोकसभा चुनाव ही नहीं राज्यों के चुनाव में भी मोदी फैक्टर ही निर्णायक रहा.
    मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के पहले साल में कोरोना संकट ने अर्थव्यवस्था को चौपट कर दिया, अब पीएम मोदी की अपील पर देश की जनता अगर विदेशी उत्पादों की जगह लोकल उत्पादों का अधिक उपयोग करती है और इसके अच्छे परिणाम आते हैं तो यह मोदी सरकार 2.0 के पहले साल की सबसे बड़ी उपलब्धियों में से एक गिनी जाएगी.
    प्रसिद्ध ज्योतिषी बेजन दारूवाला का 90 वर्ष की आयु में निधन हो गया. वह गुजरात के गांधीनगर स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती थे. कोरोना वायरस के प्राथमिक लक्षण के बाद उनका इलाज चल रहा था.
    मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के एक साल पूरे होने जा रहे हैं. 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने अपने दम पर 303 सीटें जीतकर राजनीतिक पंडितों को भी चौंका दिया था. चुनाव नरेंद्र मोदी की अगुवाई में लड़ा गया लेकिन पार्टी में कई ऐसे वॉरियर्स हैं जिन्होंने अपने प्रधान सेनापति के लिए चुनावी जंग को फतह करने में सब कुछ लगा दिया था.
    सपा के आग्रह पर विधानसभा अध्यक्ष हृदयनारायण दीक्षित ने गुरुवार को शिवपाल यादव की सदस्यता समाप्त करने के लिए दी गई याचिका को वापस कर दिया है. हालांकि, कोरोना संकट के दौर में चाचा-भतीजा की बीच कई मुलाकातें हो चुकी हैं. ऐसे में एक बार फिर सियासी चर्चा गरम है कि क्या शिवपाल यादव की सपा में घर वापसी होगी?
    भारतीय जनता पार्टी को केंद्र में सरकार चलाते 6 साल पूरे हो गए हैं, इस दौरान देश के अलग-अलग राज्यों में चुनाव हुए. इस दौरान भाजपा ने फर्श से अर्श तक का सफर देखा है.
    राजधानी दिल्ली में केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को पिछले एक साल में कई तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ा है. फिर चाहे दिल्ली चुनाव में भाजपा की हार हो या फिर दिल्ली में भड़की हिंसा हो.
    23 मई 2019 में लोकसभा चुनाव के नतीजे आए थे. प्रचंड बहुमत के साथ भारतीय जनता पार्टी की जीत हुई थी. नरेंद्र मोदी दूसरी बार प्रधानमंत्री बने थे. 30 मई को मोदी सरकार 2.0 के 1 साल पूरे हो जाएंगे.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay