एडवांस्ड सर्च

देवरिया जिले में पाकिस्तानी टिड्डियों से निपटने के लिए प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने भी जिला अधिकारियों से वीडियो कांफ्रेंस कर सतर्कता बरतने के निर्देश दिए.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    कोरोना वायरस की वजह से देश भर में लॉकडाउन लगाए जाने के बाद प्रवासी मजदूरों के पलायन का जो सिलसिला शुरू हुआ, वह अभी तक थमा नहीं है. योगी सरकार ने यूपी में लौट रहे कामगारों और श्रमिकों की स्किल मैपिंग कराई थी जिसके परिणाम अब सामने आने लगे हैं. शुक्रवार को 9.5 लाख लोगों के रोजगार के लिए करार होने जा रहा है.
    दिसंबर में सरकार नागरिकता संशोधन कानून यानी सीएए लेकर आई. इसका देशभर में विरोध हुआ. कुछ जगह खासकर यूपी में विरोध प्रदर्शन ने हिंसक रूप भी ले लिया. इस हिंसा को लेकर राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार ने जो एक्शन लिया उसने दुनिया भर का ध्यान अपनी ओर खींचा.
    दिल्ली के मौजूदा हालात और टिड्डियों के हमले से पहले तैयारियों का जायजा लेने के लिए दिल्ली सरकार में मंत्री गोपाल राय ने आपात बैठक बुलाई.
    उत्तराखंड से 22 नेपाली छात्र उत्तर प्रदेश आए थे. लॉकडाउन के कारण नेपाल जाने के लिए कोई साधन उपलब्ध न होने की वजह से सभी छात्र परेशान थे. इन छात्रों को नेपाल उनके घर पहुंचाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के अधिकारियों को निर्देश दिया.
    मुख्यमंत्री और कृषि मंत्री ने समीक्षा कर संबंधित जिलों के डीएम एवं कृषि विभाग के अधिकारियों को टिड्डी दल से बचाव के लिए उचित कार्रवाई करने को कहा है.
    वाराणसी में महंत परिवार की मांग है कि विश्वनाथ मंदिर के कपाट गंगा दशहरा के शुभ अवसर 1 जून से आम भक्तों के लिए खोल दिए जाएं.
    यूपी में आयुष मिशन के मिशन निदेशक राजकमल यादव ने अनोखा 'आयुष कवच कोविड' मोबाइल ऐप तैयार किया और कोविड नियंत्रण में आयुष विभाग की मैनपावर से ‘सेकेंड लाइन सपोर्ट’ दिलाया.
    कांग्रेस पार्टी और प्रियंका गांधी के टि्वटर हैंडल पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के संबोधन का एक क्लिप जारी किया गया है. मुख्यमंत्री के संबोधन में यह कहते सुना जा सकता है कि महाराष्ट्र से आने वाले 75 फीसदी श्रमिक और दिल्ली से आने वाले 50 फीसदी श्रमिक संक्रमण के शिकार हैं.
    प्रदेश के प्रत्येक प्रवेश द्वार के साथ ही कुल 1400 जगह पर कामगारों, श्रमिकों के लिए भोजन और पानी का इंतजाम किया गया है. क्वारनटीन सेंटर पर मेडिकल परीक्षण के बाद होम क्वारनटीन के लिए भेजते समय राशन के पैकेट भी दिए जा रहे हैं.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay